Wednesday , 17 October 2018
Home » Health » पेट के रोग » अजीर्ण बदहज़मी » बदहज़मी अपच अजीर्ण से बचने के घरेलु नुस्खे !!

बदहज़मी अपच अजीर्ण से बचने के घरेलु नुस्खे !!

बदहज़मी अपच अजीर्ण से बचने के घरेलु नुस्खे। (Gastric Problem)

कई बार पेट में गैस बनने की तीव्रता बढ़ जाती है और पेट के भीतर बनने वाली इस गैस के बाद पेट में तीव्र पीड़ा होने लगती है। अगर यह समस्या अकसर होने लगे तो यह गम्भीर बीमारी का रूप ले लेती है।
मानव शरीर में गैस्ट्रिक म्यूकोसा (Gastric Mucosa) के द्वारा हाइड्रोक्लोरिक एसिड बनता है जो मानव शरीर पर प्रभाव डालता है और गैस की समस्या से निजात दिलाता है। अगर हाइड्रोक्लोरिक एसिड सही प्रकार से नहीं बनता है तो भोजन भी सही से नहीं पच पाता है।

आधुनिक जीवन शैली ने इस समस्या को बढ़ावा दिया है। गैस्ट्रिक बीमारी का सीधा संबंध खानपान से है। जो लोग भोजन में चटपटा, तला, मिर्च मसालेदार, खट्टा, नींबू, संतरा आदि का सेवन अधिक करते हैं उन लोगों को यह समस्या जल्दी होती है।

इनके अलावा जो लोग चाय, काफी, चालकेट, शराब का अधिक सेवन करते हैं, वे भी इस रोग से ग्रसित हो जाते हैं। तनावग्रस्त रहने वाले लोगों को भी गैस की समस्या (Gastric Problem) अधिक होती है।

सौंफ Fennel या इसका अर्क, चूर्ण एक बार जरुर पढ़े आपके जीवन में अमर बाण साबित हो सकता है !!

बदहज़मी के लक्षण

खट्टी डकारें आना,
खाना या खट्टा पानी (एसिड) मुंह में आ जाना,
गले से खरखराहट महसूस होना और सांस फूलने की भी शिकायत होना,
छाती के निचले भाग में दर्द का महसूस होना और उलटी करने का मन करना,
स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ जाना,

सामान्य उपचार

गैस की बीमारी में उपचार के साथ अपनी जीवनशैली में बदलाव लाकर इससे छुटकारा पाया जा सकता है। गैस्ट्रिक रोगियों को बचाव के लिये कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए ताकि रोग ज्यादा न बढ़ पाये।

दिन भर में मुख्य आहार 2 बार के स्थान पर 3-4 बार थोड़ी मात्रा में करें।

तनाव न लें और जल्दबाजी से बचें, गुस्से पर काबू रखें।

सौंफ Fennel या इसका अर्क, चूर्ण एक बार जरुर पढ़े आपके जीवन में अमर बाण साबित हो सकता है !!

भोजन करने के बाद एक चम्मच सौंफ चबा चबा कर खानी चाहिए। और कुछ देर तक वज्रासन पर बैठना चाहिए।

एक छोटी कटोरी में आधा नींबू निचोड़ लें। अब एक चम्मच नींबू का रस लेकर उसमें चार से पांच बूंद शहद की मिला लें। इसे अच्छी तरह मिला लें और हर सुबह ख़ाली पेट पियें। हर सुबह इसे पीने से आपकी पाचन क्रिया मजबूत होती है और अपच से बचाव होता है।

अगर सुबह नित्य कर्म करने के बाद 10 से 15 मिनट तक रोज़ाना कपाल भाति प्राणायाम किया जाए तो ये रोग बिना दवा के एक दो दिन में ही सही हो जाता हैं।

अगर खट्टी डकारे आएं, एसिड ज़्यादा बन जाए तो एक चम्मच कच्चा जीरा चबा चबा कर धीरे धीरे खाएं और १० मिनट बाद ऊपर से एक गिलास पानी पी लें। बिलकुल सही हो जायेगा।

[Must. Read. एसिडिटी और हाइपर एसिडिटी का रामबाण इलाज। ]

 

5 comments

  1. Solid h boss….

  2. Nirmali Borthakur

    I like your page.

    • Nirmali Borthakur

      Please give one permanent medicine to cure gastric problem.Because i have to take one medicine daily in morning time.

  3. I am suffering for high acciditi and cervical spondlisyiae high neck pain what I do I can’t understand plz help me

  4. I am suffring from acidity & gases from last one year. please pen me medicine for the same. &Explain where can I get

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status