Wednesday , 21 November 2018
Home » anaaj » चोकर में समाया है स्वास्थय का राज़

चोकर में समाया है स्वास्थय का राज़

चोकर में समाया है स्वास्थय का राज़

चोकर कैंसर से बचाता है तथा आँतों की सुरक्षा करता है. आमाशय के घाव को ठीक करता है. क्षय रोग भी दूर करता है. हृदय रोग से बचाता है. बैड कोलेस्ट्रॉल से रक्षा करता है. मोटापा घटाने के लिए चोकर निरापद औषिधि है, इस से भोजन में कमी करने की आवश्यकता नहीं पड़ती, और इंसान आसानी से पतला हो जाता है. चोकर मधुमेह (शुगर) के निवारण में सहायता करता है.

गेंहू के चोकर में स्वास्थ्य रक्षा के लिए बहुत सारे धातव लवण एवम विटामिन मौजूद रहते हैं. बिना चोकर  की रोटी खाने से स्वास्थय गिर जाता है एवम चोकर में निहित गुणों की पूर्ति एनी खाद्य पदार्थ से नहीं हो सकती.

सभी प्रकार के अन्न के रेशों में गेंहू के चोकर को आदर्श स्थान मिलता है. अर्थात गेंहू का चोकर आदर्श उच्चतम फाइबर का स्त्रोत है.

गेंहू के चोकर में प्रोटीन, वसा, कार्बोहायड्रेट, कैलोरीज, फाइबर, कैल्शियम, सोडियम, ओक्ज़ेलिक एसिड, पोटैशियम, ताम्बा, सल्फर, कलोरिन, जिंक, थियामिन, विटामिन – ए, रिबोफ्लोविन, निकोटिनिक एसिड, पायरिडोकसिन, फोलिक एसिड, प्रेटाथेनिक एसिड पाया जाता है.

अगर घर में नित्य चोकर की मोटी रोटी एवम छिलके सहित सब्जी खाएं तो आपकी  छोटी से लेकर बड़ी बीमारी वैसे ही दूर हो जाएगी.

जैसे भी हो सके व्यक्ति रोटी में 50 ग्राम चोकर मिलाकर खाएं और जीवन जीने का आनंद प्राप्त करें. चोकर यदि मात्रा में अधिक भी होतो इससे कोई हानि नहीं होगी. चोकर साफ़ सुथरा, मोटा, स्वादिष्ट, ताजे आटे से निकला हुआ हो .चोकर सहित बनायीं गयी रोटी रोटी लाभदायक होती है.

चोकर के लाभ.

  • चोकर कब्ज दूर करने का प्राकृतिक उपाय है. चोकर खाने से मल सूखता नहीं.
  • चोकर आँतों में जाकर उत्तेजना पैदा नहीं करता अपितु गुदगुदी पैदा करता है जो के एक प्राकृतिक नियम है. गुदगुदाहट पैदा होकर बिना जोर लगाये मल आसानी से निकल जाता है. जोर लगाकर मल निकालने से नाडी कमज़ोर हो जाती है तथा वायु भरना, बवासीर, कांच निकलना इत्यादि रोग हो जाने का डर रहता है. चोकर से मल पतला नहीं आता अपितु यह मुलायम और बंधा हुआ आता है. आँतों में मरोड़ पैदा नहीं होती.
  • चोकर की रोटी मुंह की लार को अधिक मात्रा में समेट लेती है. अतः भोजन के पचने में सहायता करता है. चोकर पेट के अन्दर का मल झाड – बुहार कर साफ़ कर देता है. पेट साफ़ रहने से कोई बीमारी नहीं होती.
  • चोकर खाने वाले को APENDICITIS (अपेंडिक्स) नहीं होता. बड़ी अंत और मलाशय का कैंसर कभी नहीं हो सकता.
  • चोकर कैंसर से बचाता है तथा आँतों की सुरक्षा करता है. आमाशय के घाव को ठीक करता है. क्षय रोग भी दूर करता है. हृदय रोग से बचाता है. बैड कोलेस्ट्रॉल से रक्षा करता है. मोटापा घटाने के लिए चोकर निरापद औषिधि है, इस से भोजन में कमी करने की आवश्यकता नहीं पड़ती, और इंसान आसानी से पतला हो जाता है. चोकर मधुमेह (शुगर) के निवारण में सहायता करता है.
  • चोकर से स्नान करने से चरम रोग सही होता है.
  • चोकर खाने वालों का मन मस्तिष्क स्वस्थ रहता है, क्यूंकि चोकर से पेट साफ़ हो जाता है. चोकर क्षार धर्मी होने के कारण रक्त में रोगों से लड़ने की शक्ति बढाता है.

चोकर के लिए आप एक तो जब भी आटा पिसवायें उसको थोडा मोटा पिसवायें और रोटी बनाते समय जब इसको छानते हैं तो छानने के लिए मोटी छन्नी का प्रयोग करें. बस इतना सा ही काम है. आटा जितना बारीक होगा स्वास्थय के दृष्टि कोण से उतना ही बेकार होगा.

One comment

  1. Satish Deshmukh

    Nice advices to people

  2. Supar ilaj hai aap ka

  3. Mujhe kuch bate maloom karna hai us ka ilaj kaise karu mere joro me dard or kamar me dard raheta hai

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status