Tuesday , 25 September 2018
Home » Major Disease » heart attack ka ilaj » अगर बढती हो आपके हृदय की धड़कन तो इनको ज़रूर करें शामिल अपने भोजन में.

अगर बढती हो आपके हृदय की धड़कन तो इनको ज़रूर करें शामिल अपने भोजन में.

Heart beat badhne ka ilaj, heart beat normal karne ka tarika, heart ka ilaj

हृदय की धड़कन का बढ़ना हृदय रोगों की तरफ इशारा करता है, अगर आपके या आपके स्नेही जन की हृदय की धड़कन बढती हो तो आप नियमित अपने भोजन में ये चीजें ज़रूर शामिल करें. इस से हृदय की धड़कन सामान्य होने में बहुत मदद मिलेगी. आइये जानते हैं.

सिर्फ 1 से 3 महीने में 90 % Heart Blockage भी हो जाएगी छु मंतर – आयुर्वेद का वरदान

प्याज – जिनके हृदय की धड़कन बढ़ गयी हो, हृदय रोगों से बचना चाहते हैं, वे एक कच्चा प्याज नित्य खाना खाते सामान्य खाएं. इस से धड़कन सामान्य होगी. प्याज का रस उचित मात्रा में लेना रक्तप्रवाह में सहायक है और दिल को कई बिमारियों से सुरक्षित रखता है.

अंगूर – रोगी यदि अंगूर खाकर ही रहे तो हृदय रोग शांत हो कर शीघ्र ठीक हो जाते हैं. जब हृदय दर्द हो, धड़कन अधिक हो तो अंगूर का रस पीने से दर्द बंद हो जाता है तथा धड़कन सामान्य हो जाती है. थोड़ी देर में ही रोगी को आराम आ जाता है तथा रोग की आपात स्थिति दूर हो जाती है.

सिर्फ 1 से 3 महीने में 90 % Heart Blockage भी हो जाएगी छु मंतर – आयुर्वेद का वरदान

पिस्ता – पिस्ता हृदय की धड़कन कम करता है, रात को पांच पिस्ता पानी में भिगो दें. प्रातः पानी फेंक दें. केवल पिस्ता खाएं ऊपर से दो घूँट पानी पियें.

दूध – धारोषण अर्थात ताज़ा निकला हुआ बिना गर्म किया हुआ, धारोषण दूध एक गिलास में स्वादनुसार मिश्री या शहद, दस रात्रि में भीगी हुई किशमिश सुबह निकाल कर उसी भिगोये हुए पानी में पीसकर दूध में मिला कर नित्य 40 दिन तक पियें. हृदय कि धड़कन कम होगी, शरीर में शक्ति आएगी.

सिर्फ 1 से 3 महीने में 90 % Heart Blockage भी हो जाएगी छु मंतर – आयुर्वेद का वरदान

गाजर – हृदय की धड़कन बढ़ना तथा रक्त गाढ़ा होने की बीमारी में गाजर लाभ करती है.

धनिया – हृदय की धड़कन यदि अधिक मालुम हो तो सूखा धनिया और मिश्री सामान मात्रा में मिलाकर नित्य एक चम्मच ठन्डे पानी से लें. बहुत फायदा होगा.

अनार के पत्तों का घोल – अनार के ताज़े 50 पत्ते पीसकर आधा कप पानी में घोला कर छान लें. इस तरह तैयार किया हुआ अनार के पत्तों का घोल सुबह शाम पीने से हृदय की धड़कन में लाभ होता है.

[ये भी ज़रूर पढ़ें – कैसे बचे ऑपरेशन से जब डॉक्टर ने कहा के 95 परसेंट ब्लॉकेज है]

One comment

  1. सर आपने स्वप्नदोषघ्न चूर्ण वाला नुक्सा बताया था तो मुझे इसे use करना है तो please मुझे यह बताये की
    इसे लेते समय खाने मे तेल से बनी सब्जी खा सकते हैं या नही तथा खाने में ओर क्या क्या परहेज करे तथा इसे खाने से पहले ले या बाद में

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status