Monday , 18 November 2019
Home » Major Disease » Liver » jaundice » यकृत रोग में अनुभूत और अचूक नुस्खे जो कई बार परीक्षित है अवश्य लाभ ले |

यकृत रोग में अनुभूत और अचूक नुस्खे जो कई बार परीक्षित है अवश्य लाभ ले |

यकृत रोग में अनुभूत और अचूक नुस्खे जो कई बार परीक्षित है अवश्य लाभ ले |

मानव शरीर यंत्र में यकृत एक ऐसा अवयव है जहा रुधिर उत्पन्न होता है|इसलिए मानव का जीवन बहुत अंश                      तक इस पर आश्रित है|व्रक्क और प्लीहा आदि इसी के अधीन है इसलिए यदि यकृत में कोई विकार आ जाता है                     तो शरीर में अनेक दोष उत्पन्न हो जाते है|यकृत के ठीक रहने पर ही स्वास्थ्य निर्भर है|यकृत का पूरा-पूरा                           ध्यान रखना हमारे लिए परमावश्यक है|                                                                                                                             निचे इसके सम्बन्ध में कुछ योग लिख रहे है आप परिक्षण करे,अवश्य लाभप्रद सिद्ध होंगे| यकृत रोगों के उपचार                    में बढ़ी सावधानी से काम ले|

1 .-यकृत दुर्बलता –                                                                                                                                                             यकृत के सभी दोष इसके सेवन से दूर हो जाते है|शरीर में शुद्ध स्वच्छ रुधिर पैदा होने लगता है|अनुभूत और अचूक है            विधि –                                                                                                                                                                              बालछड और नागरमोथा दोनों को समान मात्रा में ले|बारीक़ पीसकर शीशी में डाल ले|इसकी प्रातः ,दोपहर और                    सांयकाल 1-1 ग्राम की मात्रा ठंडे पानी के साथ दिया करे|कुछ दिनों के सेवन से पूर्ण आराम हो जायेगा|

2.-द्धितीय योग –                                                                                                                                                                 यह रोग भी बड़ा सरल और सफल है|परन्तु कुछ लम्बा अवश्य है कुछ भी परिश्रम नही करना पड़ता|20 दिनों                        के निरंतर सेवन से वर्षो का रोग जड से मिट जाता है|                                                                                                         विधि –                                                                                                                                                                                 50 ग्राम साबुत चने पका ले|स्वाद के अनुसार थोडा-सा नमक मिला करके प्रतिदिन प्रातः-काल खिलाया करे|                      मिर्च बिल्कुल भी न हो|पन्द्रह दिवस तक तो इसी प्रकार खिलाते रहे|पिछले पांच दिनों में थोड़े-से घी में भूनकर                       दिया करे|20 दिनों के सेवन के उपरांत पुराने से पुराना रोग भी न रहेगा|अनुपम और अनुभूत योग है|

3.-विचित्र विधि-                                                                                                                                                                इसके एक सप्ताह के सेवन से निश्चय ही रोग का नाश हो जाता है|और पूरा आराम हो जाता है|परीक्षित और                           सुगम योग है|                                                                                                                                                                    विधि –                                                                                                                                                                             लोहे का एक साफ टुकड़ा ले जिसका वजन 60 ग्राम हो| इसे आग में तपाकर लाल करे|एक लोहे के बर्तन में 250                    ग्राम पानी डालकर लाल किये हुए टुकड़े को इसमें छोड़ दे|लोहे के बिना किसी दुसरे बर्तन से ढक दे|जब पानी                        ठंडा हो जाये तब 200 ग्राम गाय की छाछ मिलाकर तथा थोडा-सा मीठा मिला करके रोगी को प्रातः समय                                निराहार मुख दिया करे|ईश्वर क्रपा से 8-10 दिनों में रोग समूल नष्ट हो जायेगा|

4.-यकृत शोथ –                                                                                                                                                                  सर्व प्रकार के यकृत शोथ के लिए यह ओषधि अत्यधिक लाभप्रद है|अत्यन्त गुणकारी ओषधि है|बनाकर अनुभव ले|           विधि –                                                                                                                                                                                मुलहठी और नोशादर दोनों को समान मात्रा में लेकर बारीक़ करके शीशी में डाले|आवश्यकता पड़ने पर दिन में 3 बार             एक-एक ग्राम ओषधि ठंडे पानी के साथ दिया करे|शीघ्र लाभ होगा|

5.-यकृत शोथ की अचूक दवा –                                                                                                                                            यकृत शोथ,दुर्बलता और यकृत पीड़ा आदि रोगों के लिए यह अत्यन्त लाभप्रद है|तेयार करके जनसाधारण का हित              सम्पादन करे|स्तुत्य योग यह है|                                                                                                                                        विधि-                                                                                                                                                                                  अफ़सनतीन 7 ग्राम और नोसादर 4 रती को 250 ग्राम पानी में ओटावे जब आधा पानी जल चुके तब उतार कर                    कपड़े से छान ठंडा करके रोगी को पिलाये|यकृत विकार से जो ज्वर बराबर आता हो या यकृत शोथ या यकृत पीड़ा                   हो उनके लिए बड़ा ही लाभप्रद है|थोड़े दिन के सेवन से पूर्ण आराम हो जायेगा|

अपथ्य – गर्म,खट्टी,तेल से तली हुई,देर से पचने वाली वस्तुए तथा चाय,अंडा,मद्द आदि वस्तुओ से परहेज करे|

भोजन -सुपाच्य वस्तुए ,साधारण शाक सब्जी यथा कददू,कुल्फा ,पालक और गेंहू दलिया देते रहे|

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status