Sunday , 25 February 2024
Home » Search Results for: तिल (page 4)

Search Results for: तिल

प्रतिश्याय (नजला – जुकाम ) के रामबाण , अचूक व अनुभूत योग – एक बार अवश्य प्रयोग करे |

प्रतिश्याय (नजला – जुकाम ) के रामबाण , अचूक व अनुभूत योग – एक बार अवश्य प्रयोग करे | कंठमार्ग द्वारा गिरने वाली आर्द्रता को नजला और नासिका द्वरा गिरने वाली को जुकाम कहते है नजला जुकाम से अधिक कष्टकर  और भयंकर होता है | स्थाई नजला और जुकाम मस्तिष्क को दुर्बल और बेकार बना देते है आप की सेवा …

Read More »

कर्ण रोगो (कान के रोग)के अचूक और रामबाण घरेलू आयुर्वेदिक नुस्खे -एक बार अवश्य आजमाएं

कर्ण रोगो (कान के रोग)के अचूक और रामबाण घरेलू आयुर्वेदिक नुस्खे -एक बार अवश्य आजमाएं 1. विधि मुली का पानी 50 ग्राम और तिल का तेल 20 ग्राम |दोनों को मंद मंद आग पर रखकर पकायें |जब पानी जलकर केवल तेल शेष रह जाये तब उतार ले और शीशी में भर ले |कान में दो बूंद डाले बहुत जल्दी बहरापन,झनझनाहट …

Read More »

क्यों है जरूरी विटामिन बी-12

विटामिन बी काम्प्लेक्स में तीन प्रकार के विटामिन होते हैं थाइमिन राइबोफ्लेविन और निकोटिनिक एसिड। इसकी कमी का प्रभाव डॉक्टर जीभ देख कर बता देते हैं। शरीर के लिये जरूरी पोषक तत्वों में से एक है। शरीर को सुचारु रूप से चलाने में विटामिन्स और माइक्रोन्यूट्रीएंट्स बहुत जरूरी होते हैं, पर विटामिन बी एक ऐसा तत्व है, जो मस्तिष्क और तंत्रिका …

Read More »

एक्जीमा को दूर करने के घरेलु नुस्खे

एक्जीमा इस रोग में त्वचा शुष्क हो जाती है और बार-बार खुजली करने का मन करता है क्योंकि त्वचा की ऊपरी सतह पर नमी की कमी हो जाती है, जिसके परिणामस्वरूप त्वचा को कोई सुरक्षा नहीं रहती, और जीवाणुओं और कोशाणुओं के लिए हमला करने और त्वचा के भीतर घुसने के लिए आसान हो जाता है। एक्जिमा के गंभीर मामलों …

Read More »

हल्दी के फायदे और गुण

हल्दी(Turmeric ) के फायदे और गुण हल्दी को आयुर्वेद में प्राचीन काल से ही एक चमत्कारिक द्रव्य के रूप में मान्यता प्राप्त है। औषधि ग्रंथों में इसे हल्दी के अतिरिक्त हरिद्रा, कुरकुमा लौंगा, वरवर्णिनी, गौरी, क्रिमिघ्ना योशितप्रीया, हट्टविलासनी, हरदल, कुमकुम, टर्मरिक नाम दिए गए हैं। आयुर्वेद में हल्‍दी को एक महत्‍वपूर्ण औषधि‍ कहा गया है। भारतीय रसोई में इसका महत्वपूर्ण …

Read More »

अनेक रोगों में शहद का प्रयोग

अनेक रोगों में शहद का प्रयोग – 1- कुछ बच्चे रात में सोते समय बिस्तर में ही मूत्र (पेशाब) कर देते हैं। यह एक बीमारी होती है। सोने से पहले रात में शहद का सेवन कराते रहने से बच्चों का निद्रावस्था में मूत्र (पेशाब) निकल जाने का रोग दूर हो जाता है- 2- एक चम्मच शुद्ध शहद शीतल पानी में …

Read More »

अगर चाहते हैं कभी कब्ज ना हो तो करे ये उपाय।

कब्ज क्यों होता है- हमारे अप्राकृतिक आहार,विहार और विचार के चलते कब्ज उत्पन्न होती है | जब शरीर में मल की अधिकता हो जाती है तब मल निष्कासक अंग इसे पूरी तरह से बाहर नही निकाल पाते फलस्वरूप यह शरीर में एकत्र होकर रक्त के साथ मिलकर अन्य अनेक रोग उत्पन्न कर देता है | इसके मुख्य कारण ये है …

Read More »

पीरियड्स या तेज़ Bleeding को रोकने का रामबाण आयुर्वेदिक उपाय – Bleeding kaise roke

aparajita, bleeding kaise roke, अपराजिता

पीरियड्स में तेज़ Bleeding को रोकने का रामबाण आयुर्वेदिक उपाय – Bleeding kaise roke. Bleeding Kaise roke –  बहुत बार स्त्रियों को अत्यधिक मासिक आते हैं जिस से शरीर से बहुत खून निकल जाता है या फिर कई बार गर्भाशय में किन्ही विकारों के कारण भी खून निकलता रहता है. ऐसे में एक औषिधि बहुत रामबाण है जिस से गर्भ …

Read More »

भृंगराज रसायन – 100 वर्ष तक युवा रहने की इच्छा वालों के लिए

bhringraj rasayan, भृंगराज रसायन

भृंगराज रसायन – Bhringraj rasayan – भृंगराज रसायन के फायदे ऋषि वाग्भट जी ने भृंगराज को अद्भुत रसायन बताया है, भृंगराज रसायन का प्रयोग करने वाला 100 वर्ष तक की आयु में भी युवाओं जैसा अनुभव करता है, अर्थात बुढापे के लक्ष्ण प्रतीत नहीं होते. अतः जो लोग यह इच्छा रखते हैं के वो 100 वर्ष तक की आयु में …

Read More »

रोहिडा – हृदय लीवर प्लीहा गुल्म प्रमेह अर्श सहित समस्त उदर एवं कृमि रोग नाशक

rohida ke fayde, rohida, rohitak, रोहिडा, रोहितक, रोहिडा के फायदे, रोहितक के फायदे

रोहिडा के फायदे – रोहितक के फायदे – Rohida ke fayde – Rohitak ke fayde. रोहिडा जिसको रोहितक, रक्त्घन, दाड़िमपुष्पक, प्लीहाशत्रू इत्यादि नामों से जाना जाता है, यह समस्त भारत के शुष्क भागों में 900 मीटर की ऊंचाई तक पाया जाता है. इसके फूल और पत्ते अनार के जैसे होते हैं. यह 10 से 15 फ़ुट ऊंचा पेड़ होता है. …

Read More »
DMCA.com Protection Status