Tuesday , 18 December 2018
Home » मसाले » कढीपत्ता » बिना पैसे का घर का डॉक्टर मीठा नीम – जानिए कढीपत्ता के ग़ज़ब के फायदे

बिना पैसे का घर का डॉक्टर मीठा नीम – जानिए कढीपत्ता के ग़ज़ब के फायदे

कढीपत्ता अर्थात मीठा नीम है बहुत फायदेमंद.

मीठी नीम यानी कड़ी पत्ते में अनेको गुण समाये हैं आज हम कुछ विशेष गुण जैसे उच्च रक्तचाप, एक्जिमा, मर्दाना कमज़ोरी आदि में इसके उपयोग की विधि बता रहे हैं।

मीठा नीम मुख्यत हिमालयी क्षेत्र को छोड़कर सम्पूर्ण भारत में पाया जाता हैं। ये एक सदाबहार झाड़ीदार पेड़ हैं, और इसीलिए सदाबहार वनो में बहुतायत पाया जाता हैं। इसको कड़ी में स्वस्थ्य बढ़ाने के लिए डाला जाता हैं, जिस कारण इसको कढीपत्ता भी कहा जाता हैं। ये छोटे गमलो में घर पर भी लगाया जा सकता हैं। एक परिवार की ज़रूरत के अनुसार इसको घर पर लगा लेना चाहिए।

इसमें पाये जाने वाले गुणों के कारण इसको हर सब्जी में डाला जाता हैं। इसकी पत्तियों में विशिष्ट प्रकार की सुगंध आती हैं। इन पत्तो में एसेंशियल ऑयल्स होते हैं जिनमे मुरया सायनिन और कैरियोफायलिन प्रमुख हैं।

[ ये भी पढ़िए सफ़ेद दाग का इलाज Safed daag ka ilaj ]

कढ़ी पत्ते का पेड़ (मुराया कोएनिजी, (Murraya koenigii;) ; अन्य नाम: बर्गेरा कोएनिजी, (Bergera koenigii), चल्कास कोएनिजी (Chalcas koenigii)) उष्णकटिबंधीय तथा उप-उष्णकटिबंधीय प्रदेशों में पाया जाने वाला रुतासी (Rutaceae) परिवार का एक पेड़ है, जो मूलतः भारत का देशज है। अकसर रसेदार व्यंजनों में इस्तेमाल होने वाले इसके पत्तों को “कढ़ी पत्ता” कहते हैं। कुछ लोग इसे “मीठी नीम की पत्तियां” भी कहते हैं। इसके तमिल नाम का अर्थ है, ‘वो पत्तियां जिनका इस्तेमाल रसेदार व्यंजनों में होता है’। कन्नड़ भाषा में इसका शब्दार्थ निकलता है – “काला नीम”, क्योंकि इसकी पत्तियां देखने में कड़वे नीम की पत्तियों से मिलती-जुलती हैं। लेकिन इस कढ़ी पत्ते के पेड़ का नीम के पेड़ से कोई संबंध नहीं है। असल में कढ़ी पत्ता, तेज पत्ता या तुलसी के पत्तों, जो भूमध्यसागर में मिलनेवाली ख़ुशबूदार पत्तियां हैं, से बहुत अलग है।

आइये जाने इस मीठी नीम यानी कढीपत्ते के 8 चमत्कारिक फायदे।

1. रक्तचाप नियंत्रित रखने हेतु कढ़ी पत्ता

उच्च रक्तचाप वाला व्यक्ति हर रोज़ ७-८ पत्ते हर रोज़ सुबह चबा चबा कर खाए तो उसका रक्तचाप नियंत्रित रहता हैं।

2. एंटीऑक्सीडेंट कढी पत्ता

ये पत्तिया शाम के समय चबाने से शरीर में विशिष्ट प्रकार की स्फूर्ति तथा उत्तेज़ना का संचार होता हैं। एक प्रकार से ये प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट की भाँती प्रभाव देता हैं।

3. पेचिश – आंव में कढी पत्ता

अगर आपको दस्त की समस्या हो गयी हैं तो कड़ी पत्ते की कुछ मात्रा जल में हलके से उबालकर उस जल को पीने से तुरंत लाभ होता हैं।

[ ये भी पढ़िए bawasir ka ilaj बवासीर का इलाज ]

4. अतिसार में कढी पत्ता

अतिसार में इसके ताज़े हरे पत्तो का अर्क बहुत लाभदायक हैं।

5. नेत्र रोगो में कढी पत्ता

नेत्रों की ज्योति बढ़ाने हेतु अथवा रतौंधी की समस्या होने पर मीठा नीम की पत्तियों का चूर्ण २ ग्राम मात्रा नित्य जल से ग्रहण करने से परम लाभ होता हैं। इस हेतु इन पत्तियों को छाया में सुखाकर फिर पीसा जाता हैं। ये चूर्ण जल्दी खराब नहीं होता और काफी समय तक सुरक्षित रहता हैं।

6. शुक्राणुवर्द्धन हेतु कढी पत्ता

जिन व्यक्तियों के वीर्य में शुक्राणु की संख्या कम होती हैं, उन्हें सन्तानोत्पत्ति का योग निर्मित होने में कठिनाई आती हैं। ऐसे व्यक्तियों को मीठा नीम की छाल के चूर्ण की एक ग्राम मात्रा शहद के साथ लेने से लाभ होता हैं। इसे दिन में एक बार सुबह के समय लेना चाहिए।

7. मर्दाना ताकत बढ़ाने हेतु कढी पत्ता

कड़ी पत्ता के पौधे की छाल का चूर्ण १ ग्राम अथवा इसकी जड़ का चूर्ण 1 ग्राम, दूध में प्रयाप्त औटाकर मिश्री मिला कर पीने से यौन उत्तेजना में वृद्धि होती हैं, साथ ही शरीर भी पुष्ट होता हैं।

[Read. अरण्ड के 120 औषिधियाँ प्रयोग। http://onlyayurved.com/tree/castor/benefit-of-castor/]

8. एक्जिमा और घावों में कढी पत्ता

कड़ी पत्ता के बीज का तेल उत्तम कीटनाशक होता हैं, अत: एक्जिमा ठीक करने में अथवा घावों को सुखाने में यह अत्यंत लाभदायक रहता हैं। इस हेतु इसको लुग्धी बना कर घावों पर लगाया जाता हैं।

9. डायबिटीज़ को कंट्रोल करता है कढ़ी पत्ता

कढ़ी पत्ते में एंटी डायबिटिक एंजेट होते हैं। यह शरीर में इंसुलिन की गतिविधि को प्रभावित करके ब्लड शुगर लेवल को कम करता है। साथ ही इसमें मौजूद फाइबर भी डायबिटीज़ के रोगियों के लिए फायदेमंद होता है। इसके लिए अपने भोजन में कढ़ी पत्ते की मात्रा बढ़ाएं या फिर रोज सुबह तीन महीने तक खाली पेट कढ़ी पत्ता खाएं तो फायदा होगा। कढ़ी पत्ता मोटापे को कम कर के डायबिटीज को भी दूर कर सकता है।

10. नाक और सीने से कफ का जमाव कम करता है कढ़ी पत्ता

अगर आपको सूखा कफ, साइनसाइटिस और चेस्ट में जमाव है तो कढ़ी पत्ता आपके लिए बेहद असरदार उपाय हो सकता है। इसमें विटामिन सी और ए के साथ एंटी-बैक्टीरियल और एंटी फंगल एजेंट होते हैं, जो जमे हुए बलगम को बाहर निकालने में मदद करता है।  कफ से राहत पाने के लिए एक चम्मच कढ़ी पाउडर को एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें। अब इस मिक्सचर को दिन में दो बार पिएं।

11. लीवर को सुरक्षित करता है कढ़ी पत्ता

अगर आप ज्यादा एल्कोहल का सेवन करते हैं या फिश ज्यादा खाते हैं तो कढ़ी पत्ता आपके लीवर को इससे प्रभावित होने से बचा सकता है। कढ़ी पत्ता लीवर को ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से बचाता है जो हानिकारक तत्व जैसे मरकरी जो मछली में पाया जाता है और एल्कोहल की वजह से लीवर पर पड़ता है। इसके लिए आप घर के बने हुए घी को गर्म करके उसमें एक कप कढ़ी पत्ते का जूस मिलाएं। इसके बाद थोड़ी सी चीनी और पिसी हुई काली मिर्च मिलाएं। अब इस मिक्सचर को कम तापमान में गर्म करके उबाल लें और उसे हल्का ठंडा करके पिएँ।

[ ये भी पढ़िए कैंसर का इलाज Cancer ka ilaj ]

12. एनीमिया रोगियों के लिए उपयोगी कढ़ी पत्ता

कढ़ी पत्ते में आयरन और फोलिक एसिड उच्च मात्रा में होते हैं। एनीमिया शरीर में सिर्फ आयरन की कमी से नहीं होता, बल्कि जब आयरन को अब्जॉर्ब करने और उसे इस्तेमाल करने की शक्ति कम हो जाती है, तो इससे भी एनीमिया हो जाता है। इसके लिए शरीर में फोलिक एसिड की भी कमी नहीं होनी चाहिए क्योंकि फोलिक एसिड ही आयरन को अब्जॉर्ब करने में मदद करता है। अगर आप एनीमिया से पीड़ित हैं तो एक खजूर को दो कढ़ी पत्तों के साथ खाली पेट रोज सुबह खाएं। इससे शरीर में आयरन लेवल ऊंचा रहेगा और एनीमिया की संभावना भी कम होगी।

13. दिल की बीमारियों से बचाता है कढ़ी पत्ता

स्टडी के अनुसार, कढ़ी पत्ते में ब्लड कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाले गुण होते हैं, जिससे आप दिल की बीमारियों से बचे रहते हैं। यह एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर होते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल का ऑक्सीकरण होने से रोकते हैं। दरअसल ऑक्सीकृत कोलेस्ट्रॉल बैड कोलेस्ट्रॉल बनाते हैं जो हार्ट डिसीज़ को न्यौता देते हैं। इसके लिए आप खाने में कढ़ी पत्ते की इस्तेमाल ज़्यादा करें या इसके कुछ पत्तों को कच्चा चबाएं।

कढ़ी पत्ता बड़ी आसानी से घरों में लग जाता है, ये गमलों में भी लग जाता है. आप इसको घर में लगाये और जब भी सब्जी इत्यादि बनायें तो इसको ज़रूर डालें, इस से सब्जी का स्वाद भी कई गुना बढेगा और उसमे औषधीय गुण भी आयेंगे.

आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी आप हमको कमेंट में बता सकते हैं.

कैंसर रोगियों के लिए बड़ी खबर – हर स्टेज के कैंसर हो सकेगा सही – Miracle Roots – कैंसर का इलाज

Miracle Roots

नमस्कार दोस्तों, आपको जानकर बहुत ख़ुशी होगी के Only Ayurved ने कैंसर रोगियों के लिए एक बहुत ही बढ़िया सप्लीमेंट तैयार किया है जिसका नाम है Mirakle Roots. यह ऐसी औशिधियों का मिश्रण है जो के एक एक अपने आप में कैंसर किलर हैं. यह उन मरीजों के लिए बेहद फायदेमंद होगा जो के कैंसर का इलाज ले रहें हैं और इसको वो अपने चल रहे इलाज के साथ भी बड़ी आसानी के साथ ले सकते हैं. चाहे कैंसर प्रथम स्टेज का हो या लास्ट स्टेज का हो, मरीज को यह तुरंत देना शुरू करना चाहिए. इसका असर कुछ ही दिनों में देखने को मिल जाता है. अभी आइये आपको बताते हैं इसमें डाली जाने वाले कुछ बेहतरीन औशिधियों के बारे में. आइये जाने क्या संभव है कैंसर का इलाज.

इसमें श्याम तुलसी, पपीते के पत्ते, सदाबहार के पत्ते, गेंहू के जवारे, नोनी, रेवंद चीनी, हल्दी, अदरक, पुनर्नवा, निम्बू का छिलका, अश्वगंधा, मुलहठी, कलौंजी, कचनार, दालचीनी, ग्रीन टी इत्यादि चीजों का Extract डाला गया है, जो के इसकी गुणवत्ता को कई गुणा बढाता है.

अब आइये आपको बताते हैं के ये कैसे काम करता है.

  • सबसे पहले तो ये व्यक्ति को कैंसर से बचाने और कैंसर को रोकने में बहुत ही सहायक हैं, जिस कारण से इसको कोई भी व्यक्ति सेवन कर सकता है.
  • यह Apoptosis जो के कैंसर सेल्स की Programmed cell Death की प्रक्रिया है को बढाता है.
  • इसका सेवन Mutation से होने वाले DNA Damage को बचाएगा.
  • इसमें डाले जाने वाली औषधियों में इस प्रकार के एंजाइम पाए जाते हैं जो कैंसर कोशिकाओं के ऊपर पाए जाने वाली उनके बचाव के लिए बनायीं गयी कोटिंग को नष्ट करती है, जिस से उस कैंसर सेल को ख़त्म करने में आसानी होती है, जिस से जो भी आपका ट्रीटमेंट चल रहा हो, वो चाहे किसी भी पद्धति से हो वो अधिक असर करेगा.
  • यह कैंसर की कोशिकाओं को ख़त्म करता है और स्वस्थ कोशिकाओं को बचाएगा.
  • यह एक शक्तिशाली एंटी ऑक्सीडेंट का काम करता हैं जो कोशिकाओं को Free Radical के प्रभाव से बचाएगा.
  • इसमें जो औषधियां हैं वो कैंसर सेल की ग्रोथ को रोकेगा.
  • यह कैंसर से बचाव के साथ साथ इससे होने वाली जटिलताओं जैसे उलटी, उबाक, कमजोरी इत्यादि को भी नष्ट करता है.

उपरोक्त सब गुणों के कारण इसका सेवन कैंसर के रोगी को तो तुरंत ही कर देना चाहिए. और कैंसर के रोगी को कुछ परहेज ज़रूर करने चाहिए, जैसे के मीठे का, अनाज का, चाय का. और रोगी को खाने में सिर्फ मौसमी फल और उबली हुई सब्जियां देनी चाहिए. Cancer ka ilaj

अगर कैंसर अधिक बढ़ गया हो या शरीर में दर्द होता हो रोगी को बहुत कमजोरी महसूस होती हो तो इसके साथ में रोगी को Wonder Berries ज़रूर दीजिये. Wonder Berries दुनिया की बेहतरीन 16 Berries का Extract है, जो के एक पावरफुल एंटी ऑक्सीडेंट का काम करेगा, रोगी को तुरंत शक्ति देगा, फ्री रेडिकल्स से बचाएगा, शरीर में खून को बढ़ाएगा और एनर्जी से भरपूर करेगा. रोगी को कैंसर से लड़ने की अद्भुत शक्ति देगा. इसका रिजल्ट रोगी को पहले दिन से ही दिखना शुरू होगा. तीन से चार दिन में रोगी को अभूतपूर्व परिवर्तन महसूस होगा. और जहाँ ये बाज़ार में 2 से 3 हज़ार की मिलती है वहीं पर Only Ayurved आपके लिए ये सिर्फ 970 में लेकर आया है.

क्या संभव है कैंसर का इलाज Miracle Roots

जी बिलकुल अगर कैंसर के मरीज को डाइट चार्ट का पालन करवाया जाए और नियमित सही से दवाएं दी जाएँ तो कैंसर का इलाज संभव है.

आशा करते हैं के कैंसर के रोगी इन दोनों उत्पादों का भरपूर फायदा उठाएंगे और कैंसर का इलाज कर पाने में सक्षम होंगे.

यह उपरोक्त दोनों चीजें आपको हमारे डीलर के पास से मिल जाएँगी, जिनका नंबर नीचे दिया गया है.

Note : Cancer का इलाज लेते समय यह Cancer Diet chart जरुर फॉलो करना है जिस से आप को और भी जल्दी और सटीक नतीजे मिल सकते है . Cancer diet chart in hindi – कैंसर रोगियों के लिए सम्पूर्ण रामबाण डाइट चार्ट पढने के लिए यहाँ Click करे !

Miracle Roots के लिए आपके नजदीकी Only Ayurved Dealer list और उनकी Location

आपके नजदीकी Only Ayurved Dealer list और उनकी Location

बिहार

पटना – 7677551854, 7480099296

छत्तीसगढ़

बिलासपुर – 9584891808, 9926758959, 9300333438

रायपुर – 9644133772

दुर्ग भिलाई – 9691305217

झारखण्ड

मनिका – लातेहार – 9801290105

पश्चिम बंगाल – West Bengal

कोलकाता –  7003386968

असम

सिलचर – 9954000321

महाराष्ट्र

मालेगांव (नासिक) – डॉ. फरीद शेख 9860785490

धुले – 9860704470

नासिक – 9270928077

पुणे – 9209211786

अकोला – 7020579564

वर्धा – 9579997503

नागपुर – 8830998853

शोलापुर – 8308604642

कल्याण – 8454050864

टिटवाला – 9821315415

मलाड – 9967293444

घाटकोपर – 07738350032

बोरीवली – 9004316923

भंडारा – 9422174853

औरंगाबाद – 8208266068

विरार – 9892967369

अमरावती – 9765332255

कर्नाटक – Karnataka

धारवाड़ (Dharwad) – 9844984103

बैंगलोर (Bangalore) – 7019098485

तामिलनाडू

चेन्नई – 9884164854

तेलंगाना

हैदराबाद – 08374457775

गुजरात

अहमदाबाद – 9974019763

अहमदाबाद घाटलोडिया – 9974019763

पालनपुर ( डॉ. हिदायत मेमन )  –  9428371583

द्वारिका – 9033790000

चिकली – 9427869061

अमरेली – 9427888387

अंकलेश्वर – भरूच – 8460090090

बड़ोदा – 9725245318

सूरत –  8866181846

भुज / मुंद्रा  – 9974576143

मध्यप्रदेश

भोपाल – 7987552689

इटारसी – 6260342004

इंदौर – 9713500239

विदिशा – 9131055585

जबलपुर – 9039868554

ग्वालियर – 9229239248

कटनी – 9074901083

उत्तर प्रदेश

मेरठ – 8449471767

हाथरस ( U. P. ) –  9997397043, 7017840020

मथुरा ( वैध रविकांत जी ) – 9259883028

अलीगढ – 9027021056

आगरा – 8923234014

कासगंज – 7409463111

फ़िरोज़ाबाद – 8445222786

मैनपुरी – 8449601801

फ़र्रुख़ाबाद – 9839196374

रायबरेली – 9236038215

वाराणसी – 9125349199

इलाहाबाद ( डॉ.  सी. पी. सिंह ) – 9520303303

गोरखपुर – 9792960999

सिद्धार्थ नगर – 9936404080

महाराजगंज – 9455426806

लखनऊ – 8417856005

दिल्ली –  NCR

सराय कालें खां –  9015439622, 9871490307

सुभाष नगर – 9911006202

गाज़ियाबाद – 9719077555

Greater Noida – 9310299100

गुडगाँव – 9310330050

फ़रीदाबाद – 9315154682

हरियाणा

हिसार – 9518884444

हसनपुर पलवल – 9050272757

पानीपत – 9812126662

बाढ़डा ( चरखी दादरी ) – 9813210584

फ़रीदाबाद – 9315154682

चंडीगढ़ – 9877330702

डबवाली – 9416218182

पंजाब

मोगा – 9988009713

बठिंडा – 9779566697

डबवाली – 9416218182

कोट कपूरा – 9872320227

मलोट – 9878100518

मलेर कोटला – 9872439723

लुधियाणा – 9803772304

जालंधर – 9814832828

अमृतसर – 8872295800

होशियारपुर उड़मुड टांडा – 9803208718

गुरदासपुर – 9815483791

मोहाली – 09216411342

मुकेरियां – 9815296322

चंडीगढ़ – 9877330702

राजस्थान

जयपुर – 8290706173, 8005648255

दौसा – 7737497140

जोधपुर – 8005724956

बीकानेर – 7062169968

अजमेर – 7976779225

सिरोही – 9875238595

उदयपुर – 9875238595

टोंक – 9509392472

अजीतगढ़ – 8005648255

फतेहपुर शेखावाटी – 9636648998

उदयपुर वाटी (झुंझुनू)  डॉ राकेश कुमार – 9351606755

संगरिया – 7597714736

हिमाचल प्रदेश

नालागढ़ – 9816022153

कुल्लू – 8219500630

चिन्तपुरणी – 9816414561

अगर आप Only Ayurved के साथ मिलकर ये काम करना चाहते हैं तो संपर्क कीजिये

उत्तर प्रदेश 7017840020

महाराष्ट्र – 9860758490

मुंबई – 8454050864

गुजरात – 8866141846

बिहार – 7677551854

हरियाणा – 9315154682

पंजाब – 9779566697

मध्य प्रदेश – 7987552689

छत्तीसगढ़ – 9300333438

अन्य राज्यों के लिए संपर्क करें. 7014016190

[ ये भी पढ़िए जोड़ो के दर्द का इलाज  jodo ke dard ka ilaj, Joint pian ka ilaj, जॉइंट पेन का इलाज ]

 

11 comments

  1. pradeep kumar kaul

    Aap ka suggestion muje bahut acha lagaei eska zaroor estamal karunga

  2. It’s an wonderful information keep it up

  3. Abinesh kumar jain

    Aurveba Ausadhi is a god gift

  4. मंगलचंद माणक चंद जी सेठ

    आर्युवेद दवा सर्वोतम होती है। बिमारी को जडमुल से खत्म करती है।

  5. I am suffering from High BP, can you suggest me how I can use this leaves?

  6. Need useful information

  7. Sir khan say suney nhe dhata kye madsan bhato

  8. It is very useful site for every one, thanks for giving very anmol tips for all kinds of disease…

  9. You have post allthe time a good new or good for health i humbly with you and request for some more ayurvedic advice for sexualy exmple hormon mobolity and sperm
    Pls send me some good effectible medi

    • सेक्स समस्याओं के लिए आप हमारे ऊपर पुरुषों के रोग वाले मेनू पर क्लिक कर के पढ़ें. आपको सभी रोगों के बारे में जानकारी मिलेगी…

  10. Free astrology service all over india
    08146132537

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status