Saturday , 15 December 2018
Home » Supplement » सब्जी दाल बनाते समय डाल दें या पानी में उबाल लें दो आंवले बल बुद्धि वीर्य श्वांस दमा हार्ट फेफड़ों खांसी एसिडिटी…

सब्जी दाल बनाते समय डाल दें या पानी में उबाल लें दो आंवले बल बुद्धि वीर्य श्वांस दमा हार्ट फेफड़ों खांसी एसिडिटी…

Best And Easy Ayurvedic Supplement.

दोस्तों आज हम आपको एक ऐसे प्रयोग के बारे में बताने जा रहें हैं जिसको अगर आप रोजाना करना शुरू कर दें तो आपको जीवन में कभी कोई दवाई लेने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी, इस से आपको कभी भी हार्ट की कोई भी समस्या नहीं होगी, ब्लड प्रेशर नहीं बढेगा, श्वांस का कोई रोग नहीं होगा, एसिडिटी नहीं होगी, सर चकराना, खांसी जैसे रोग नहीं होंगे.

दो अच्छे आंवले पानी में उबालें आगर रोज़ ऐसा ना कर सकें तो आंवलों को जब भी घर में दाल या सब्जी बने तो उस समय दाल सब्जी में डाल दे ताकि आंवले अच्छे से सीझ जाएं। इस से एक तो दाल और सब्जी भी गुणकारी हो जाएगी और दूसरा आंवले भी सही से सीझ जायेंगे. जब आंवले अच्छे नर्म हो जाए तब गुठली अलग करके कलियों को मसल ले. 5 – 6 अच्छे मुनक्के बीज रहित अर्थात बीज निकले हुए मुनक्के और इनमे 1 ग्राम सौंठ चूर्ण मिलाकर इन सबको अच्छे से मसल कर चटनी कर लें. इस मिश्रण को दिन में एक बार भोजन के 1 घंटे बाद एक चम्मच शहद के साथ चाट ले।

यह प्रयोग किसी भी ऋतु में किया जा सकता है। यह प्रयोग हृदय फेफड़े और पाचन संस्थान को बल प्रदान कर पूरे शरीर को बल पुष्टि देता है और श्वास, दमा, खांसी, सिर चकराना, हायपर एसिडिटी आदि व्याधियों को दूर करता है। इसके साथ पुरुषों में बलवीर्य भरपूर करता है, इस प्रयोग को नित्य करने से जो पुरुष नपुं*सक हो चुकें हैं वो भी पुन्सक बन जाते हैं.

यह योग स्वस्थ अवस्था में, बीमारी की अवस्था में, सभी उम्र के लोगों को और किसी भी ऋतु में सेवन किया जा सकता हैं इसलिए इस योग को श्रेष्ठ बल पुष्टि दायक टॉनिक कह सकते हैं।

विवाहित पुरुषों को यह प्रयोग नित्य करना चाहिए इस प्रयोग से उनके शरीर में कोई भी और किसी भी प्रकार की कमजोरी नहीं आएगी तथा 100 साल तक वह जवान बने रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status