Monday , 18 November 2019
Home » udar rog » उदर रोग -के लिए अचूक और शीघ्र लाभ देने वाले कुछ नुस्खे |

उदर रोग -के लिए अचूक और शीघ्र लाभ देने वाले कुछ नुस्खे |

उदर रोग -के लिए अचूक और शीघ्र लाभ देने वाले कुछ नुस्खे |

पेट की अनेक बीमारियाँ जेसे पेट दर्द ,सुजन ,पेट के कीड़े ,रोगों के लिए आपके लिए लाये है अनेक लाभकारी                          और अचूक नुस्खे है जो तत्काल रूप से प्रभाव दिखाते है अवश्य अजमाए लाभ होगा

1.-उदर पीड़ा –                                                                                                                                                                   विधि –                                                                                                                                                                               पुदीना के सात ताजा पत्ते और छोटी इलायची एक |दोनों को पान में रखकर खाने से उदर पीड़ा तत्काल                                   दूर हो जाती है |

2.-उदर शूल –                                                                                                                                                                     विधि –                                                                                                                                                                              करंजवा की एक कच्ची मींगी और एक भुनी हुई |दोनों को  पानी में घोटकर रोगी को पिला दे |उसी समय आराम                      हो जायेगा |

3.-द्तिय योग –                                                                                                                                                                   विधि –                                                                                                                                                                              काली मुसली 3 ग्राम को बारीक़ करके थोडा सा गोघृत मिलाकर खिलावे |इससे शूल और छाती का दर्द दूर होगा |

4.-कददूदाना –                                                                                                                                                                    विधि –                                                                                                                                                                             आवश्कतानुसार बायबिडंग लेकर खूब बारीक़ कर ले |नित्य प्रति प्रातः समय 5 ग्राम चूर्ण की मात्रा 100 ग्राम                        दही के साथ दिया करे |यदि रोग पुराना और प्रबल हो तो दोनों समय इसी विधि से दिया करे |पुराने से पुराने                        कीड़े कुछ दिनों के सेवन से मरकर गुदामार्ग से निकल जायेंगे |

5- विधि –                                                                                                                                                                             करंजवा की मींगी 12 ग्राम और काला नमक 3 ग्राम |दोनों को बारीक़ करके नित्य पांच ग्राम खाना बड़ा लाभप्रद है |

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status