Friday , 20 July 2018
Home » Child » काली खांसी (कुकरकास) के उपाए – Treatment of Whooping Cough in Hindi
काली खांसी

काली खांसी (कुकरकास) के उपाए – Treatment of Whooping Cough in Hindi

काली खांसी एक गंभीर किस्म की खांसी होती है जो ज्यादातर 5 से 15 साल की आयु के बचों को होती है | यह बिमारी लडको से ज्यादा लड़कियों में पायी जाती है | 6 महीने से कम उम्र के बचो में इस बिमारी  से मृत्यु का खतरा बना रहता है |

( काली खांसी का इलाज , kali kahnsi ka ilaj )

आये जानते है इस गंभीर बिमारी काली खांसी से कैसे छुटकारा पाया जा सकता है |

  • सेहुड (विधारा ) का दूध 1-1 बूँद लेकर और मक्खन में मिलाकर दिन में कई बार बच्चो को चटाने से कुकरकास में लाभ होता है |
  • लोंग को आग पर भूनकर शहद के साथ चाटने से काली खांसी में लाभ होता है |
  • नागफ्ली की कली तथा अधपका कच्चा फल आग पर सेककर उपर की छाल अलग करके फल को मसलकर कपडे में रखकर व् छानकर रस निचोड़ ले | इस रस में चीनी या मिश्री मिलाकर बच्चो को सेवन कराने से कुकरकास में लाभ होगा |
  • लज्जालु की मूल का चूर्ण 1-1 रती की मात्रा में शहद तथा शक्कर में मिलाकर दिन में 2-3 बार बच्चो को सेवन कराने से काली खांसी के वेग का दमन हो जाता है | ( काली खांसी का इलाज , kali kahnsi ka ilaj )
  • स्पेगधा का चूर्ण 1 रती से 3 रती तक की मात्रा में 3-3 घंटे के अनराल पर शहद में मिलाकर सेवन करने से कुकरकास में लाभ होगा |
  • सोम्क्ल्पता का चूर्ण और मुलहठी का चूर्ण समान भाग में मिलाकर माता के दूद में बच्चो को दिन में 3-4 बार सेवन करने से कुकरकास में लाभ होगा | ( काली खांसी का इलाज , kali kahnsi ka ilaj )
  • लाख का चूर्ण 2-2 रती की मात्रा में 3 ग्राम मक्खन में मिलाकर दिन में 3 बार सेवन करने से कुकरकास में लाभ होता है |

[ ये नही पढ़िए कब्ज का इलाज , kabj ka ilaj ]

  • कछुवे की खोपड़ी को जलाकर भरस बना ले | इस भरस को 2 रती से 1 ग्राम तक की मात्रा में खाड में मिलाकर रोगी को चटाने से काली खांसी से राहत मिलती है | ( काली खांसी का इलाज , kali kahnsi ka ilaj )
  • फिटकरी 5 से 10 रती तक दिन में रोगी को 3 बार सेवन कराने से कुकरकास में लाभ होता है |
  • लहसुन की कलियों के तेल की मालिश करने से कुकरकास में लाभ होता है | ( काली खांसी का इलाज , kali kahnsi ka ilaj )
  • गैस लालटेन का जला होआ मेटल पीसकर उसमे दोगुनी मात्रा में यवक्षार का चूर्ण मिलाकर इसमें से 1-1 रती चूर्ण शहद में मिलाकर दिन में 3 बार सेवन कराने से कुकरकास में लाभ होता है | ( काली खांसी का इलाज , kali kahnsi ka ilaj )
  • केले के कोमल पतों को छाया में सुखाकर जला दे | उसकी राख को मधु में मिलाकर कास के समय सेवन करने से लाभ होता है |

[ ये भी पढ़िए Heart Blockage ka ilaj , हार्ट ब्लॉकेज का इलाज ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status