Monday , 16 July 2018
Home » Health » asthma » Asthma ka gharelu ilaj बिना दवा के दमा अस्थमा का तुरंत रामबाण इलाज
asthma ka gharelu ilaj

Asthma ka gharelu ilaj बिना दवा के दमा अस्थमा का तुरंत रामबाण इलाज

Asthma ka gharelu ilaj, Home remedy for asthma. Asthma Treatment at Home.

Asthma ka gharelu ilaj – आज हम आपको स्वर चिकित्सा की ऐसी विधि बता रहे हैं जिससे बिना दवा के ही दमा जैसे भयंकर रोग में आपको तुरंत आश्चर्यजनक रूप से आराम आ जायेगा। ये विधि बहुत ही सरल और बहुत ही उपयोगी है। आइये जाने।

जब कभी भी दमा का दौरा उठे या श्वांस फूलने लगे तब तत्काल स्वर परीक्षा करें, देखे के श्वांस किस नाक से आ रहा है, अपनी हथेली को नाक के पास ले जाएँ और ज़ोर से सांस फेंककर देखें के किस नाक से सांस आ रहा है। जिस नाक से सांस तेज़ आ रहा हो तो उस नाक को तुरंत बंद कर दीजिये और दूसरे नाक से सांस लेना प्रारम्भ कर दीजिये। इसी को स्वर बदलना कहते है। स्वर बदलने के 10-15 मिनट में ही आश्चर्यजनक रूप से दम का फूलना बंद हो जाता है। Asthma ka gharelu ilaj

स्थायी रूप से श्वांस रोग को दूर करने के लिए

स्थायी रूप से श्वांस रोग को दूर करने के लिए रोगी को प्रयत्नपूर्वक दिन रात अधिक से अधिक दायां स्वर (अर्थात दाहिने नथुने से सांस का निकलना या सूर्य स्वर) चलाने का अभ्यास करना चाहिए, जैसे प्रात: उठते समय, भोजन करने के लिए बैठते समय, भोजन करने के बाद, रात्रि सोते समय। सूर्य स्वर कफशामक होने के साथ जठराग्निवर्धक भी है जिससे दमा शांत होता है। अत: यदि भोजन भी स्वर शास्त्र के नियमानुसार किया जाए तो निश्चय दमे का रोग समूल नष्ट हो जाता है। Asthma ka gharelu ilaj

[ ये भी पढ़िए सफ़ेद दाग का इलाज Safed daag ka ilaj ]

भोजन ग्रहण करते समय और भोजन करने के पश्चात दायाँ स्वर (सूर्य स्वर) चलायें तो न केवल दमा रोग के उन्मूलन में ही सहायता मिलती है, बल्कि अजीर्ण भूख न लगने और पाचन शक्ति के कमज़ोर होने की शिकायतें भी दूर हो जाती हैं।

यदि रोगी सदैव दाहिने नथुने के चलते समय ही भोजन करे (और भोजन के साथ पानी पीना बंद कर दें) और भोजन के बाद 15-20 मिनट बायीं करवट लेकर दाहिना स्वर चलाते रहें तो भोजन आसानी से पच जाता है और उपरोक्त शिकायतें दूर हो जाती हैं। यदि बदहज़मी हो गयी हो तो इस उपाय से (अर्थात सूर्य स्वर चलाने से) वह धीरे धीरे समाप्त हो जाती है, क्यूंकि दाहिना स्वर पित्तवर्धक होने से इसे चलाने से पित्त या पाचक अग्नि को बल मिलता है और मंदाग्नि दूर होकर पेट के अनेक रोग नष्ट हो जाते हैं। Asthma ka gharelu ilaj

दायाँ स्वर चलने से शरीर में गर्मी बढ़ती है और बायां स्वर चलने पर शीतलता। अत: जुकाम, खांसी, कफ और ठण्ड से उत्पन्न रोगों में यदि दायाँ स्वर अधिक चलेगा तो रोगी जल्दी स्वस्थ हो जायेगा। इसके अतिरिक्त दायाँ स्वर चलाने चलाने से निम्न रक्तचाप में शीघ्र लाभ मिलता है। Asthma ka gharelu ilaj

इसी प्रकार जब गर्मी अधिक हो और लू लगने लगे तो बायां स्वर चलाना चाहिए तो कितनी भी गर्मी हो लू नहीं लगेगी।

[ ये भी पढ़िए bawasir ka ilaj बवासीर का इलाज ]

Asthma ka gharelu ilaj

सांस की बीमारी और अस्थमा से होने वाली परेशानी को घरेलू नुस्खे और उपाय से कम कर सकते है और इस रोग को कंट्रोल किया जा सकता है।

  • एक कप मैथी का बना काढ़ा, थोड़ा सा शहद और एक चम्मच अदरक का रस मिला ले। ये होम रेमेडी अस्थमा का उपचार करने में काफी फायदेमंद है।
  • अस्थमा का अटैक कम करने के लिए दो चम्मच शहद और एक चम्मच हल्दी मिलाकर चाट ले।
  • अस्थमा ट्रीटमेंट में लहसुन का सेवन काफ़ी उपयोगी है। चार से पांच लहसुन की कलियां तीस एम एल दूध में उबाल ले और प्रतिदिन इसका सेवन करे। इसके इलावा लहसुन की दो कलियां पीस कर अदरक की चाय में डाल कर सुबह शाम पीने से भी फायदा मिलता है।
  • गर्म कॉफी पीने से भी दमा की बीमारी में राहत मिलती है। कॉफी से साँस लेने वाली नली साफ़ होती है जिससे सांस लेने में दिक्कत नहीं आती।
  • थोड़ा सा कपूर सरसों के तेल में डाल कर गरम कर ले और ठंडा होने के बाद इससे कमर और छाती की मालिश करे। हर रोज इस तेल से मालिश करने पर दमा के लक्षण कम होने लगते है।
  • दमा का इलाज देसी नुस्खे से करने के लिए पीपल के पत्ते छांव में सूखा कर सूखे पत्ते किसी बर्तन में डाल कर जला ले। अब जलने के बाद जो बचेगा उसे कपड़े से छान ले। अब इस में शहद मिलाकर चाट ले। इस उपचार को दो महीने तक प्रतिदिन दो से तीन बार करने पर दमा में आराम मिलता है।
  • पानी में तुलसी के पत्ते डाल कर पीस ले फिर इसमें दो चम्मच शहद मिलाये और खाए। इस घरेलु उपाय से दमा में आराम मिलता है।
  • अस्थमा के उपाय करने में इलायची भी फायदेमंद है। बड़ी इलायची का सेवन करने से अस्थमा और हिचकी दोनों से आराम मिलता है। बड़ी इलायची, खजूर और अंगूर को एक समान मात्रा में ले और पीस ले। इस अस्थमा की घरेलू दवा को शहद के साथ चाटे, इससे दमा और खाँसी दूर होते है।
  • एक गिलास दूध में एक चम्मच हल्दी मिला कर पीने से एलर्जी से बचते है और अस्थमा कंट्रोल में रहता है।
  • दिन में दस से बारह गिलास पानी जरूर पिए और भोजन करते वक़्त पानी ना पिए।

[ ये भी पढ़िए कैंसर का इलाज Cancer ka ilaj ]

Asthma ka gharelu ilaj – योग

अस्थमा का इलाज करने के लिए होम रेमेडीज के साथ अगर योग भी किया जाए तो जल्दी फायदा मिल सकता है। दमा के लिए योग में अनुलोम विलोम प्राणायाम, भास्त्रिका प्राणायाम और कपालभाती कर सकते है।

9 comments

  1. Rohtashkashnia

    Mere pass aurvedic Davao ki jankari Meri mail id par bhej do

  2. [email protected] THANKS .USEFUL ..

  3. Asthma ki Jankarising
    Sent my id

  4. mera ling kathor nahi hota pls helf kare

  5. sex ke liy arvedik tips bheje

  6. kya damma ka koi JAR se ilaj h

  7. Sir, दाया स्वर और बाया स्वर क्या हैं।
    please बत़ाएये क्युकी मुझे भी अस्थमा हैं।
    कोई दावा भी बत़ाएये।

  8. astama pura jadse thik hosakta .iska aayurvedik ilaj hai .aur kai log thik horahe hain .aur logon tak is bat ko ponho chhane me meri maddad kare logon ka bhala karen .9009387426 call kare plzz .aslam

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status