Wednesday , 14 November 2018
Home » Beauty » बिना दवा, बिना ईलाज के ! कैसे रहें स्वस्थ – जाने ..

बिना दवा, बिना ईलाज के ! कैसे रहें स्वस्थ – जाने ..

बिना दवा, बिना ईलाज के ! कैसे रहें स्वस्थ – जाने ..

अगर प्रकृति का इरादा आपको जीवित रखने का नहीं होता, तो आप मर गए होते। अब भी आप उन दवाओं के कारण, जो आपने ली हैं या हेल्थ चेकअप और अपने अस्पताल की सलाह के कारण जीवित नहीं हैं, बल्कि इसलिए जीवित हैं क्योंकि प्रकृति अभी आपको जीवित रखना चाहती है। आप दवाओं के कारण नहीं, जीवन की प्रक्रिया के कारण जीवित हैं। दवाएं थोड़ा-बहुत खेल कर सकती हैं मगर जीवन का सृजन नहीं कर सकतीं।

आपका शरीर भी अंदर से ही बना है। आपने बाहर से कच्चा माल दिया, मगर सृजन की प्रक्रिया अंदर से ही घटित हुई। इसका मतलब है कि सृजन का स्रोत या शरीर का निर्माता आपके अंदर ही है। बाहर से सेहत को ठीक करने की कोशिश करना बहुत मेहनत वाली प्रक्रिया है। अगर आप अपने अंतरतम तक पहुंच सकते हैं, तो अच्छी सेहत एक कुदरती चीज होगी। यह सोचना कि इसे बाहर से संभाला जा सकता है – एक गलत धारणा है।

आज यह बात हर कोई जानता है कि शरीर की हर कोशिका कुदरती तौर पर इस तरह से बनाई गई है कि वह आपको सेहतमंद रखे। अगर उसका काम कुदरती तौर पर सेहत को बनाए रखना है, तो वह आपके खिलाफ काम क्यों करेगी? हमें संक्रामक और स्थायी रोगों के बीच का अंतर समझ लेना चाहिए। संक्रमण किसी बाहरी जीवाणु का आपके शरीर पर हमला है। यह एक युद्ध जैसी स्थिति होती है। उन्हें मारने के लिए आपको रासायनिक लड़ाई लड़नी पड़ती है। मगर धरती पर 70 फीसदी से अधिक बीमारियां स्थायी हैं या कहें आपके भीतर से आती हैं। इसका मतलब है कि आपका अपना शरीर, आपका अपना सिस्टम उस बिमारी को पैदा करता है। जिस सिस्टम में अपने अस्तित्व को बनाए रखने और जीवित रहने की तीव्र इच्छा हो, वह अपने ही खिलाफ कोई रोग क्यों पैदा करेगा? इसका मतलब है कि कहीं न कहीं कुछ मूल तत्व बिगड़ गए हैं। अगर आप अपने अंतरतम के संपर्क में रहें, जो सृष्टि का स्रोत और इस शरीर का निर्माता है, तो आपको सेहत के बारे में कोई बात करने या उसकी इच्छा करने की कोई जरूरत नहीं है। अगर आप इस सिस्टम को एक खास तरीके से रखते हैं, तो सेहत कुदरती तौर पर पैदा होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status