Friday , 18 October 2019
Home » पुरुषों के रोग » यौन शक्ति » Alsi ke fayde – सेक्स संबन्धी समस्याओं में सर्वश्रेष्ठ है अलसी – Flax Seeds
alsi ke fayde, flz

Alsi ke fayde – सेक्स संबन्धी समस्याओं में सर्वश्रेष्ठ है अलसी – Flax Seeds

Alsi ke fayde – आपकी सारी सेक्स सम्बंधी समस्याएं अलसी खा कर ही सही हो जाएँगी क्योंकि अलसी आधुनिक युग में स्तंभनदोष के साथ साथ शीघ्रस्खलन, दुर्बल कामेच्छा, बांझपन, गर्भपात, दुग्धअल्पता की भी महान औषधि है। आइये जाने पुरुष रोगो में अलसी कैसे काम करती हैं और इसके सेवन की विधि। Flax Seeds

Alsi ke fayde

सबसे पहले तो अलसी आप और आपके जीवनसाथी की त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनायेगी। आपके केश काले, घने, मजबूत, चमकदार और रेशमी हो जायेंगे। Alsi ke fayde

अलसी आपकी देह को ऊर्जावान, बलवान और मांसल बना देगी। शरीर में चुस्ती-फुर्ती बनी गहेगी, न क्रोध आयेगा और न कभी थकावट होगी। मन शांत, सकारात्मक और दिव्य हो जायेगा। Alsi ke fayde, benefit of flax seed, flax seed

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, जिंक और मेगनीशियम आपके शरीर में पर्याप्त टेस्टोस्टिरोन हार्मोन और उत्कृष्ट श्रेणी के फेरोमोन ( आकर्षण के हार्मोन) स्रावित होंगे। टेस्टोस्टिरोन से आपकी कामेच्छा चरम स्तर पर होगी। आपके साथी से आपका प्रेम, अनुराग और परस्पर आकर्षण बढ़ेगा। आपका मनभावन व्यक्तित्व, मादक मुस्कान और षटबंध उदर देख कर आपके साथी की कामाग्नि भी भड़क उठेगी। Alsi ke fayde, benefit of flax seed, flax seed

अलसी में विद्यमान ओमेगा-3 फैट, आर्जिनीन एवं लिगनेन जननेन्द्रियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं, जिससे शक्तिशाली स्तंभन तो होता ही है साथ ही उत्कृष्ट और गतिशील शुक्राणुओं का निर्माण होता है। इसके अलावा ये शिथिल पड़ी क्षतिग्रस्त नाड़ियों का कायाकल्प करते हैं जिससे सूचनाओं एवं संवेदनाओं का प्रवाह दुरुस्त हो जाता है। Alsi ke fayde, benefit of flax seed, flax seed

नाड़ियों को स्वस्थ रखने में अलसी में विद्यमान लेसीथिन, विटामिन बी ग्रुप, बीटा केरोटीन, फोलेट, कॉपर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ओमेगा-3 फैट के अलावा सेलेनियम और जिंक प्रोस्टेट के रखरखाव, स्खलन पर नियंत्रण, टेस्टोस्टिरोन और शुक्राणुओं के निर्माण के लिए बहुत आवश्यक हैं। कुछ वैज्ञानिकों के मतानुसार अलसी लिंग की लंबाई और मोटाई भी बढ़ाती है। Alsi ke fayde, benefit of flax seed, flax seed

 

आपने देखा कि अलसी के सेवन से कैसे प्रेम और यौवन की रासलीला सजती है, जबर्दस्त अश्वतुल्य स्तंभन होता है, जब तक मन न भरे सम्भोग का दौर चलता है, देह के सारे चक्र खुल जाते हैं, पूरे शरीर में दैविक ऊर्जा का प्रवाह होता है और सम्भोग एक यांत्रिक क्रीड़ा न रह कर एक आध्यात्मिक उत्सव बन जाता है, समाधि का रूप बन जाता है। Alsi ke fayde, benefit of flax seed, flax seed

अलसी सेवन का तरीकाः- Alsi kaise khaye, Alsi ke fayde, benefit of flax seed, flax seed

* हमें प्रतिदिन 30 – 60 ग्राम अलसी का सेवन करना चाहिये। 30 ग्राम आदर्श मात्रा है। अलसी को रोज मिक्सी के ड्राई ग्राइंडर में पीसकर आटे में मिलाकर रोटी, पराँठा आदि बनाकर खाना चाहिये। डायबिटीज के रोगी सुबह शाम अलसी की रोटी खायें। कैंसर में बुडविग आहार-विहार की पालना पूरी श्रद्धा और पूर्णता से करना चाहिये। इससे ब्रेड, केक, कुकीज, आइसक्रीम, चटनियाँ, लड्डू आदि स्वादिष्ट व्यंजन भी बनाये जाते हैं।

अगर इसको पीस कर रखे तो इसको सात दिन के अंदर सेवन कर ले अन्यथा इसके गुण खत्म हो जाते हैं। नहीं तो इसके बीजो को भून कर रखिये और कभी भी खाइये।

* अलसी को सूखी कढ़ाई में डालिये, रोस्ट कीजिये (अलसी रोस्ट करते समय चट चट की आवाज करती है) और मिक्सी से पीस लीजिये. इन्हें थोड़े दरदरे पीसिये, एकदम बारीक मत कीजिये. भोजन के बाद सौंफ की तरह इसे खाया जा सकता है .

* अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है।

* लिगनेन वनस्पति जगत में पाये जाने वाला एक उभरता हुआ सात सितारा पोषक तत्व है जो स्त्री हार्मोन ईस्ट्रोजन का वानस्पतिक प्रतिरूप है और नारी जीवन की विभिन्न अवस्थाओं जैसे रजस्वला, गर्भावस्था, प्रसव, मातृत्व और रजोनिवृत्ति में विभिन्न हार्मोन्स् का समुचित संतुलन रखता है। लिगनेन मासिकधर्म को नियमित और संतुलित रखता है। लिगनेन रजोनिवृत्ति जनित-कष्ट और अभ्यस्त गर्भपात का प्राकृतिक उपचार है। लिगनेन दुग्धवर्धक है। लिगनेन स्तन, बच्चेदानी, आंत, प्रोस्टेट, त्वचा व अन्य सभी कैंसर, एड्स, स्वाइन फ्लू तथा एंलार्ज प्रोस्टेट आदि बीमारियों से बचाव व उपचार करता है। Alsi ke fayde, benefit of flax seed, flax seed

* सेक्स संबन्धी समस्याओं के अन्य सभी उपचारों से सर्वश्रेष्ठ और सुरक्षित है अलसी। बस 30 ग्राम रोज लेनी है। गर्मियों में इसका सेवन थोड़ा कम करना चाहिए और पानी अधिक पीना चाहिए। नहीं तो गर्मी की वजह से घमोरियां वगैरह हो सकती हैं।

Flax seeds benefits in hindi – जो अलसी खाए वो गाये जवानी ज़िंदाबाद, alsi ke fayde

Flax seeds benefits in hindi – जो अलसी खाए वो गाये जवानी ज़िंदाबाद

अलसी – एक चमत्कारी आयुवर्धक, आरोग्यवर्धक दैविक भोजन, Alsi ke chamatkar

गुणधर्म – Alsi ke gun dharm – Flax seeds benefits in hindi

अलसी ( Flax Seed ) एक प्रकार का तिलहन है। इसका बीज सुनहरे रंग का तथा अत्यंत चिकना होता है। फर्नीचर के वार्निश में इसके तेल का आज भी प्रयोग होता है। आयुर्वेदिक मत के अनुसार अलसी वातनाशक, पित्तनाशक तथा कफ निस्सारक भी होती है। मूत्रल प्रभाव एवं व्रणरोपण, रक्तशोधक, दुग्धवर्द्धक, ऋतुस्राव नियामक, चर्मविकारनाशक, सूजन एवं दरद निवारक, जलन मिटाने वाला होता है। यकृत, आमाशय एवं आँतों की सूजन दूर करता है। बवासीर एवं पेट विकार दूर करता है। सुजाकनाशक तथा गुरदे की पथरी दूर करता है। अलसी में विटामिन बी एवं कैल्शियम, मैग्नीशियम, काॅपर, लोहा, जिंक, पोटेशियम आदि खनिज लवण होते हैं। इसके तेल में 36 से 40 प्रतिशत ओमेगा-3 होता है। Flax seeds benefits in hindi

पोषण तथ्य अलसी – मात्रा प्रति 100 g

कैलोरी (kcal) 533, कुल वसा 42 g, संतृप्त वसा 3.7 g, बहुअसंतृप्त वसा 29 g, मोनोअसंतृप्त वसा 8 g, कोलेस्टेरॉल 0 mg
सोडियम 30 mg, पोटैशियम 813 mg, कुल कार्बोहायड्रेट 29 g, आहारीय रेशा 27 g, शर्करा 1.6 g, प्रोटीन 18 g
वि, मिन ए 0 IU विटामिन सी 0.6 mg, कैल्सियम 255 mg आयरन 5.7 mg, विटामिन डी 0 IU विटामिन बी६ 0.5 mg,
विटामिन बी१२ 0 µg, मैग्नेशियम 392 mg. Flax seeds benefits in hindi
श्री कामदेव रस – कामी पुरुषों का अमृत – स्त्री के गर्व को हरने वाला कामिनी गर्वहारी रस

जब से परिष्कृत यानी “रिफाइन्ड तेल” (जो बनते समय उच्च तापमान, हेग्जेन, कास्टिक सोडा, फोस्फोरिक एसिड, ब्लीचिंग क्ले आदि घातक रसायनों के संपर्क से गुजरता है), ट्रांसफेट युक्त पूर्ण या आंशिक हाइड्रोजिनेटेड वसा यानी वनस्पति घी (जिसका प्रयोग सभी पैकेट बंद खाद्य पदार्थों व बेकरी उत्पादनों में धड़ल्ले से किया जाता है), रासायनिक खाद, कीटनाशक, प्रिजर्वेटिव, रंग, रसायन आदि का प्रयोग बढ़ा है तभी से डायबिटीज के रोगियों की संख्या बढ़ी है। हलवाई और भोजनालय भी वनस्पति घी या रिफाइन्ड तेल का प्रयोग भरपूर प्रयोग करते हैं और व्यंजनों को तलने के लिए तेल को बार-बार गर्म करते हैं जिससे वह जहर से भी बदतर हो जाता है। शोधकर्ता इन्ही को डायबिटीज का प्रमुख कारण मानते हैं। पिछले तीन-चार दशकों से हमारे भोजन में ओमेगा-3 वसा अम्ल की मात्रा बहुत ही कम हो गई है और इस कारण हमारे शरीर में ओमेगा-3 व ओमेगा-6 वसा अम्ल यानी हिंदी में कहें तो ॐ-3 और ॐ-6 वसा अम्लों का अनुपात 1:40 या 1:80 हो गया है जबकि यह 1:1 होना चाहिये। यह भी डायबिटीज का एक बड़ा कारण है। डायबिटीज के नियंत्रण हेतु आयुवर्धक, आरोग्यवर्धक व दैविक भोजन अलसी को “अमृत“ तुल्य माना गया है। Flax seeds benefits in hindi

अलसी ( Flax Seed ) शरीर को स्वस्थ रखती है व आयु बढ़ाती है। अलसी में 23 प्रतिशत ओमेगा-3 फेटी एसिड, 20 प्रतिशत प्रोटीन, 27 प्रतिशत फाइबर, लिगनेन, विटामिन बी ग्रुप, सेलेनियम, पोटेशियम, मेगनीशियम, जिंक आदि होते हैं। सम्पूर्ण विश्व ने अलसी को सुपर स्टार फूड के रूप में स्वीकार कर लिया है और इसे आहार का अंग बना लिया है, लेकिन हमारे देश की स्थिति बिलकुल विपरीत है । अलसी को अतसी, उमा, क्षुमा, पार्वती, नीलपुष्पी, तीसी आदि नामों से भी पुकारा जाता है। अलसी दुर्गा का पांचवा स्वरूप है। प्राचीनकाल में नवरात्री के पांचवे दिन स्कंदमाता यानी अलसी की पूजा की जाती थी और इसे प्रसाद के रूप में खाया जाता था। जिससे वात, पित्त और कफ तीनों रोग दूर होते है। Flax seeds benefits in hindi

ओमेगा-3 हमारे शरीर की सारी कोशिकाओं, उनके न्युक्लियस, माइटोकोन्ड्रिया आदि संरचनाओं के बाहरी खोल या झिल्लियों का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। यही इन झिल्लियों को वांछित तरलता, कोमलता और पारगम्यता प्रदान करता है। ओमेगा-3 का अभाव होने पर शरीर में जब हमारे शरीर में ओमेगा-3 की कमी हो जाती है तो ये भित्तियां मुलायम व लचीले ओमेगा-3 के स्थान पर कठोर व कुरुप ओमेगा-6 फैट या ट्रांस फैट से बनती है, ओमेगा-3 और ओमेगा-6 का संतुलन बिगड़ जाता है, प्रदाहकारी प्रोस्टाग्लेंडिन्स बनने लगते हैं, हमारी कोशिकाएं इन्फ्लेम हो जाती हैं, सुलगने लगती हैं और यहीं से ब्लडप्रेशर, डायबिटीज, मोटापा, डिप्रेशन, आर्थ्राइटिस और कैंसर आदि रोगों की शुरूवात हो जाती है। Flax seeds benefits in hindi

आयुर्वेद के अनुसार हर रोग की जड़ पेट है और पेट साफ रखने में यह इसबगोल से भी ज्यादा प्रभावशाली है। आई.बी.एस., अल्सरेटिव कोलाइटिस, अपच, बवासीर, मस्से आदि का भी उपचार करती है अलसी।

Alsi ke fayde – अलसी शर्करा ही नियंत्रित नहीं रखती, बल्कि मधुमेह के दुष्प्रभावों से सुरक्षा और उपचार भी करती है। अलसी में रेशे भरपूर 27% पर शर्करा 1.8% यानी नगण्य होती है। इसलिए यह शून्य-शर्करा आहार कहलाती है और मधुमेह के लिए आदर्श आहार है। अलसी बी.एम.आर. बढ़ाती है, खाने की ललक कम करती है, चर्बी कम करती है, शक्ति व स्टेमिना बढ़ाती है, आलस्य दूर करती है और वजन कम करने में सहायता करती है। चूँकि ओमेगा-3 और प्रोटीन मांस-पेशियों का विकास करते हैं अतः बॉडी बिल्डिंग के लिये भी नम्बर वन सप्लीमेन्ट है अलसी। Flax seeds benefits in hindi

अलसी ( Flax Seed ) कॉलेस्ट्रॉल, ब्लड प्रेशर और हृदयगति को सही रखती है। रक्त को पतला बनाये रखती है अलसी। रक्तवाहिकाओं को साफ करती रहती है अलसी ( Flax Seed )। Alsi ke fayde, benefit of flax seed, flax seed

चश्में से भी मुक्ति दिला देती है अलसी। दृष्टि को स्पष्ट और सतरंगी बना देती है अलसी।

अलसी ( Flax Seed ) एक फीलगुड फूड है, क्योंकि अलसी ( Flax Seed ) से मन प्रसन्न रहता है, झुंझलाहट या क्रोध नहीं आता है, पॉजिटिव एटिट्यूड बना रहता है यह आपके तन, मन और आत्मा को शांत और सौम्य कर देती है। अलसी के सेवन से मनुष्य लालच, ईर्ष्या, द्वेश और अहंकार छोड़ देता है। इच्छाशक्ति, धैर्य, विवेकशीलता बढ़ने लगती है, पूर्वाभास जैसी शक्तियाँ विकसित होने लगती हैं। इसीलिए अलसी देवताओं का प्रिय भोजन थी। यह एक प्राकृतिक वातानुकूलित भोजन है। Flax seeds benefits in hindi, Alsi ke fayde

माइन्ड का Sim card है अलसी यहां सिम का मतलब सेरीनिटी, इमेजिनेशन और मेमोरी तथा कार्ड का मतलब कन्सन्ट्रेशन, क्रियेटिविटी, अलर्टनेट, रीडिंग राईटिंग थिंकिंग एबिलिटी और डिवाइन है। Flax seeds benefits in hindi

Alsi ke fayde – त्वचा, केश और नाखुनों का नवीनीकरण या जीर्णोद्धार करती है अलसी। अलसी के शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट ओमेगा-3 व लिगनेन त्वचा के कोलेजन की रक्षा करते हैं और त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनाते हैं। अलसी सुरक्षित, स्थाई और उत्कृष्ट भोज्य सौंदर्य प्रसाधन है जो त्वचा में अंदर से निखार लाता है। त्वचा, केश और नाखून के हर रोग जैसे मुहांसे, एग्ज़ीमा, दाद, खाज, खुजली, सूखी त्वचा, सोरायसिस, ल्यूपस, डेन्ड्रफ, बालों का सूखा, पतला या दोमुंहा होना, बाल झड़ना आदि का उपचार है अलसी। चिर यौवन का स्रोता है अलसी। बालों का काला हो जाना या नये बाल आ जाना जैसे चमत्कार भी कर देती है अलसी। किशोरावस्था में अलसी के सेवन करने से कद बढ़ता है। Flax seeds benefits in hindi

Alsi ke fayde – लिगनेन का सबसे बड़ा स्रोत अलसी ही है जो जीवाणुरोधी, विषाणुरोधी, फफूंदरोधी और कैंसररोधी है। अलसी शरीर की रक्षा प्रणाली को सुदृढ़ कर शरीर को बाहरी संक्रमण या आघात से लड़ने में मदद करती हैं और शक्तिशाली एंटी-आक्सीडेंट है। लिगनेन वनस्पति जगत में पाये जाने वाला एक उभरता हुआ सात सितारा पोषक तत्व है जो स्त्री हार्मोन ईस्ट्रोजन का वानस्पतिक प्रतिरूप है और नारी जीवन की विभिन्न अवस्थाओं जैसे रजस्वला, गर्भावस्था, प्रसव, मातृत्व और रजोनिवृत्ति में विभिन्न हार्मोन्स् का समुचित संतुलन रखता है। लिगनेन मासिकधर्म को नियमित और संतुलित रखता है। लिगनेन रजोनिवृत्ति जनित-कष्ट और अभ्यस्त गर्भपात का प्राकृतिक उपचार है। लिगनेन दुग्धवर्धक है। लिगनेन स्तन, बच्चेदानी, आंत, प्रोस्टेट, त्वचा व अन्य सभी कैंसर, एड्स, स्वाइन फ्लू तथा एंलार्ज प्रोस्टेट आदि बीमारियों से बचाव व उपचार करता है। Alsi ke fayde

जोड़ की हर तकलीफ का तोड़ है अलसी। जॉइन्ट रिप्लेसमेन्ट सर्जरी का सस्ता और बढ़िया उपचार है अलसी। ­­ आर्थ्राइटिस, शियेटिका, ल्युपस, गाउट, ओस्टियोआर्थ्राइटिस आदि का उपचार है अलसी।

कई असाध्य रोग जैसे अस्थमा, एल्ज़ीमर्स, मल्टीपल स्कीरोसिस, डिप्रेशन, पार्किनसन्स, ल्यूपस नेफ्राइटिस, एड्स, स्वाइन फ्लू आदि का भी उपचार करती है अलसी। कभी-कभी चश्में से भी मुक्ति दिला देती है अलसी। दृष्टि को स्पष्ट और सतरंगी बना देती है अलसी। Alsi ke fayde

अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है, नोपोज़ (माहवारी सम्बंधित) की तकलीफों पर पॉज़ लगा देती है अलसी, पुरुषरोग में सस्टेन्ड रिलीज़ वियाग्रा है अलसी। जो अलसी खाये वो गाये जवानी ज़िंदाबाद बुढ़ापा बाय बाय, पुरूष को कामदेव तो स्त्रियों को रति बनाती है अलसी, बॉडी बिल्डिंग के लिये नम्बर वन सप्लीमेन्ट है अलसी, जोड़ की तकलीफों का तोड़ है अलसी। जॉइन्ट रिप्लेसमेन्ट सर्जरी का सस्ता और बढ़िया विकल्प है अलसी, क्रूर, कुटिल, कपटी, कठिन, कष्टप्रद कर्करोग का सस्ता, सरल, सुलभ, संपूर्ण और सुरक्षित समाधान है अलसी। Alsi ke fayde

1952 में डॉ. योहाना बुडविग ने ठंडी विधि से निकले अलसी के तेल, पनीर, कैंसररोधी फलों और सब्ज़ियों से कैंसर के उपचार का तरीका विकसित किया था जो बुडविग प्रोटोकोल के नाम से जाना जाता है। यह कर्करोग का सस्ता, सरल, सुलभ, संपूर्ण और सुरक्षित समाधान है। उन्हें 90 प्रतिशत से ज्यादा सफलता मिलती थी। इसके इलाज से वे रोगी भी ठीक हो जाते थे जिन्हें अस्पताल में यह कहकर डिस्चार्ज कर दिया जाता था कि अब कोई इलाज नहीं बचा है, वे एक या दो धंटे ही जी पायेंगे सिर्फ दुआ ही काम आयेगी। उन्होंने सशर्त दिये जाने वाले नोबल पुरस्कार को एक नहीं सात बार ठुकराया। Flax seeds benefits in hindi

अलसी सेवन का तरीकाः- Alsi khane ki vidhi

  • हम सर्दियों में प्रतिदिन 10 – 30 ग्राम अलसी का सेवन करना चाहिये। 30 ग्राम आदर्श मात्रा है। अलसी को रोज पीसकर आटे में मिलाकर रोटी, पराँठा आदि बनाकर खाना चाहिये। डायबिटीज के रोगी सुबह शाम अलसी की रोटी खायें। कैंसर में बुडविग आहार-विहार की पालना पूरी श्रद्धा और पूर्णता से करना चाहिये। इससे ब्रेड, केक, कुकीज, आइसक्रीम, चटनियाँ, लड्डू आदि स्वादिष्ट व्यंजन भी बनाये जाते हैं। Flax seeds benefits in hindi
  • अलसी ( Flax Seed ) को सूखी कढ़ाई में डालिये, रोस्ट कीजिये (अलसी रोस्ट करते समय चट चट की आवाज करती है) और मिक्सी से पीस लीजिये. इन्हें थोड़े दरदरे पीसिये, एकदम बारीक मत कीजिये. भोजन के बाद सौंफ की तरह इसे खाया जा सकता है .
  • अलसी  ( Flax Seed )की पुल्टिस का प्रयोग गले एवं छाती के दर्द, सूजन तथा निमोनिया और पसलियों के दर्द में लगाकर किया जाता है। इसके साथ यह चोट, मोच, जोड़ों की सूजन, शरीर में कहीं गांठ या फोड़ा उठने पर लगाने से शीघ्र लाभ पहुंचाती है। यह श्वास नलियों और फेफड़ों में जमे कफ को निकाल कर दमा और खांसी में राहत देती है।  Flax seeds benefits in hindi
  • इसकी बड़ी मात्रा विरेचक तथा छोटी मात्रा गुर्दो को उत्तेजना प्रदान कर मूत्र निष्कासक है। यह पथरी, मूत्र शर्करा और कष्ट से मूत्र आने पर गुणकारी है। अलसी के तेल का धुआं सूंघने से नाक में जमा कफ निकल आता है और पुराने जुकाम में लाभ होता है। यह धुआं हिस्टीरिया रोग में भी गुण दर्शाता है। अलसी के काढ़े से एनिमा देकर मलाशय की शुद्धि की जाती है। उदर रोगों में इसका तेल पिलाया जाता हैं।
  • अलसी के तेल और चूने के पानी का इमल्सन आग से जलने के घाव पर लगाने से घाव बिगड़ता नहीं और जल्दी भरता है। पथरी, सुजाक एवं पेशाब की जलन में अलसी का फांट पीने से रोग में लाभ मिलता है। अलसी के कोल्हू से दबाकर निकाले गए (कोल्ड प्रोसेस्ड) तेल को फ्रिज में एयर टाइट बोतल में रखें। स्नायु रोगों, कमर एवं घुटनों के दर्द में यह तेल पंद्रह मि.ली. मात्रा में सुबह-शाम पीने से काफी लाभ मिलेगा।
  • इसी कार्य के लिए इसके बीजों का ताजा चूर्ण भी दस-दस ग्राम की मात्रा में दूध के साथ प्रयोग में लिया जा सकता है। यह नाश्ते के साथ लें।
  • बवासीर, भगदर, फिशर आदि रोगों में अलसी का तेल (एरंडी के तेल की तरह) लेने से पेट साफ हो मल चिकना और ढीला निकलता है। इससे इन रोगों की वेदना शांत होती है।
  • अलसी ( Flax Seed ) के बीजों का मिक्सी में बनाया गया दरदरा चूर्ण पंद्रह ग्राम, मुलेठी पांच ग्राम, मिश्री बीस ग्राम, आधे नींबू के रस को उबलते हुए तीन सौ ग्राम पानी में डालकर बर्तन को ढक दें। तीन घंटे बाद छानकर पीएं। इससे गले व श्वास नली का कफ पिघल कर जल्दी बाहर निकल जाएगा। मूत्र भी खुलकर आने लगेगा।
  • इसकी पुल्टिस हल्की गर्म कर फोड़ा, गांठ, गठिया, संधिवात, सूजन आदि में लाभ मिलता है।
  • डायबिटीज के रोगी को कम शर्करा व ज्यादा फाइबर खाने की सलाह दी जाती है। अलसी व गैहूं के मिश्रित आटे में (जहां अलसी और गैहूं बराबर मात्रा में हो) श्री कामदेव रस – कामी पुरुषों का अमृत – स्त्री के गर्व को हरने वाला कामिनी गर्वहारी रस

    श्री कामदेव रस – कामी पुरुषों के लिए अमृत – स्त्री के गर्व को हरने वाला कामिनी गर्वहारी रस

    श्री कामदेव रस – जिस पुरुष के पास प्यारी और सुंदर स्त्री होने के बावजूद भी वो मैथुन ना कर सके, अगर मैथुन की चेष्टा करे भी और पास जाते ही पसीने पसीने हो जाए, इच्छा पूरी ना हो पाए, हांफने लगे, लिंग ढीला हो जाए, और वीर्य पहले ही निकल जाए वह व्यक्ति नपुंसक या नामर्द कहलाता है. शादी ब्याह में लाखों करोड़ों खर्च करने के साथ में आजीवन वाजीकरण औषधियों का इस्तेमाल करें, अन्यथा शादी में लगायें हुए पैसे भी बर्बाद हो जायेंगे.

    जब तक गृहस्थी जीवन है तब तक व्यक्ति मैथुन करेगा, अगर मैथुन के समय पुरुष स्त्री को संतुष्ट ना करवा सके तो ऐसा पुरुष स्त्री के नज़रों से गिर जाता है. आजकल के माहौल में ना तो कोई पुरुष वाजीकरण औषधियां सेवन करता है और ना ही उसके द्वारा खाए जाना वाला भोजन इतना गुणकारी है के उसके शरीर में वीर्य के भण्डार को भर पाए.

    स्त्री के स्खलित होने के बाद ही पुरुष का स्खलित होना यही पुरुष का धर्म है, जो पुरुष स्त्री को स्खलित नहीं कर सकता, वो स्त्री को खुश नहीं कर सकता, ऐसे ही लोगों की औरतें अपना दिल खुश करने दुसरे पुरुषों की चाहना करने लगती है.

    वीर्य का महत्व

    साद्रक्तं ततो मांसं मांसान्मेदः प्रजायते।
    मेदस्यास्थिः ततो मज्जा मज्जायाः शुक्र संभवः।।

    अर्थात जो भोजन पचता है, उसका पहले रस बनता है। पाँच दिन तक उसका पाचन होकर रक्त बनता है। पाँच दिन बाद रक्त से मांस, उसमें से 5-5 दिन के अंतर से मेद, मेद से हड्डी, हड्डी से मज्जा और मज्जा से अंत में वीर्य बनता है। स्त्री में जो यह धातु बनती है उसे ‘रज’ कहते हैं। इस प्रकार वीर्य बनने में करीब 30 दिन व 4 घण्टे लग जाते हैं। वैज्ञानिक बताते हैं कि 32 किलो भोजन से 800 ग्राम रक्त बनता है और 800 ग्राम रक्त से लगभग 20 ग्राम वीर्य बनता है।

    जो लोग मैथुन तो दिन रात करते हैं, पर शक्ति वर्धक, धातु पौष्टिक, वाजीकरण पदार्थों का सेवन करने की जगह गर्म चीजों का सेवन करते हैं, उनका वीर्य भण्डार तो कम होता ही है, अपितु नवीन वीर्य नहीं बन पाता, ऐसे लोगों का गृहस्थी जीवन बहुत जल्दी ख़राब हो जाता है. आयुर्वेद में 80 साल की आयु में वीर्य का बनना बंद होना लिखा गया है, मगर आजीवन जीवन शैली में तो लोगों को इतनी आयु ही भोगने को मिल जाए वो ही काफी है, आज 60 वर्ष की औसत बिमारियों से घिरी हुई आयु में 30 साल का नौजवान भी वीर्य की कमी से जूझ रहा है.

    वीर्य बढाने का महत्व

    लोग शादी में तो लाखों खर्च कर लेते हैं, मगर जिस वीर्य से शादी और गृहस्थी जीवन का आनन्द है उसके लिए कोई प्रयास नहीं करते. जिस तरह शरीर में वीर्य की कमी के कारण पुरुष नामर्द हो जाता है, उसी प्रकार वीर्य में विकार या दोष होने पर भी नामर्दी होती है. ऐसे नामर्द का वीर्य एकदम पानी की तरह पतला होता है.

    जिस शरीर से धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की प्राप्ति होती है, उस शरीर की रक्षा की कोई प्रयास नहीं कर रहा, लोग जाने अनजाने में नाना प्रकार के प्रकृति विरुद्ध, नियम विरुद्ध या शास्त्र विरुद्ध कर्म करके, अपने शरीर, पुंसत्व, अपने वीर्य का नाश कर रहें हैं. सृष्टि के नियम के विरुद्ध हस्त मैथुन का प्रचलन बढ़ रहा है, गुदा मैथुन, अयोनि मैथुन और मुख मैथुन भी तेज़ी से बढ़ रहा है, इन्ही कुकर्मो के कारण से ही आज प्रायः 75 फीसदी भारतीय पुरुष बल वीर्यविहीन नपुंसक हो रहें हैं.

    जिस तरह कीड़े मकोड़ों का खाया हुआ, आग से जला हुआ, काला और जलसे दूषित हुआ बीज हरा नहीं होता, उसी तरह दूषित वीर्य से गर्भ नहीं ठहरता, और अगर रह भी जाए तो संतान रोगी हो कर अल्पायु होती है. जिस प्रकार से अच्छी ज़मीन और उत्तम बीज से उत्तम फल देने वाला वृक्ष लगता है, उसी तरह उत्तम और शुद्ध रज वीर्य से उत्तम संतान होती है, दूषित रज वीर्य से दूषित या ख़राब औलाद होती है.

    वीर्य बढाने वाली चीजें.

    • वीर्य बढाने के लिए दूध, घी, रबड़ी, मोहनभोग, उडद की दाल के लड्डू, उडद की खीर, आम्रपाक, असगंध पाक, गोखरू पाक, बादाम का हलवा, मलाई का हलवा, मूसली पाक इत्यादि का सेवन करना चाहिए.
    • पका मीठा आम, दूध मिला हुआ आमरस, पका केला, नारियल की गिरी, कच्चे नारियल का पानी, पके अंगूर, दाख, खजूर, बादाम, सेब, नाशपाती, खरबूजा, पका हुआ ताडफल, मीठा बेर, चिरौंजी, खिरनी, सिंघाड़ा, फालसा, मीठा अनार, इत्यादि.
    • दालचीनी, तेजपात, इलायची, काली मिर्च, प्याज, घी, शहद, मूंग और चावल की खिचड़ी, ताज़ा जलेबी, सूजी का हलवा, पेठे की मिठाई, परवल इत्यादि.
    • श्रृंगार रस की पुस्तक, गाना बजाना, बाग़ की सैर, फूलों की मालाएँ पहनना, सुगन्धित द्रव्यों का इस्तेमाल, सुंदर स्त्रियों से बात करना. चुम्बन करना इत्यादि.

    मैथुन करते समय सावधानी.

    मैथुन करते समय पुरुष को मन में किसी भी प्रकार का भय(पता नहीं मै कर पाउँगा या नहीं, मुझसे होगा या नहीं, पहले तो नहीं छूट जाऊंगा इत्यादि विचार), लज्जा, शोक अथवा क्रोध नहीं होना चाहिए. स्त्रियों को चाहिए के सम्भोग के बाद वो अपने पुरुषों की तारीफ करें. जिस से उनको मानसिक शक्ति मिलती है. अगर इसके विपरीत वो उनको कहेंगे के वो उनको संतुष्ट नहीं कर पाए, या “जाओ तुम तो किसी काम के नहीं” “तुमसे कुछ नहीं हो पायेगा” इत्यादि तो ऐसे में पुरुष के मन में मानसिक नपुंसकता के विचार आ जायेंगे और वो अच्छे से मैथुन नहीं कर पायेगा.

    स्त्री प्रसंग करते ही शीतल जल पीना, शीतल जल से लिंगेन्द्रिय को धोना और स्नान करना हानिकारक है. प्रसंग के समय शरीर गर्म हो जाता है, उस दशा में शीतल जल या शरबत पीने से जुकाम, कंपरोग या जलोदर हो जाता है या बदन दुखने या ज्वर चढ़ जाता है.शीतल पानी से लिंग को धोने से वो निकम्मा हो जाता है. इसकी गर्मी मारी जाती है और ढीलापन हो जाता है.

    रसायन और वाजीकरण

    जिन औषधियों का सेवन करने से मनुष्य मृत्यु और बुढापे से बच सकता है उन्हें रसायन कहते हैं और जिन औषधियों या आहार विहार का सेवन करने से मनुष्य स्त्रियों के साथ, बिना हारे, घोड़े की तरह मैथुन कर सकता है उनको वाजीकरण कहते हैं. अतः व्यक्ति को आजीवन रसायण का सेवन करते रहना चाहिए और जब तक सम्भोग सुख भोगना चाहे तब तक वाजीकरण औषधियों का सेवन करना चाहिए.

    श्री कामदेव रस क्या है – shri kamdev ras kya hai?

    श्री कामदेव 33 जड़ी बूटियों को मिला कर बना गया एक बहुपयोगी दवा है, इसमें उत्तम किस्म की औषधियां जैसे अकरकरा, अश्वगंधा, केसर, जावित्री, जायफल, मालकांगनी, सफ़ेद मुस्ली, कृष्ण मुस्ली, कौंच बीज, उटंगन, शतावरी, विधारिकंद, सेमल की मूसली, कबाबचीनी, गोखरू, सालमपंजा, मकरध्वज, अभ्रक भस्म इत्यादि हैं. इसके सेवन से नपुंसक भी कामदेव के समान रतिक्रिया करेगा.

    स्त्री भोग का आनंद अधिक स्तम्भन शक्ति में है, और अधिक स्तम्भन तभी हो सकता है जब के वीर्य निर्दोष, पुष्ट, बलवान और अधिक हो. इसलिए जो लोग इस आनंद को भोगना चाहते हैं वो यह कामदेव रस ज़रूर इस्तेमाल करें.

    श्री कामदेव के फायदे. shri kamdev ke fayde

    • श्री कामदेव के निरंतर सेवन से रति शक्ति बढ़कर पुरुष कामदेव हो जाता है. जिस प्रकार से मदोन्मत घोडा सैंकड़ों घोड़ियों पर दौड़ता है, उसी तरह कामदेव का निरंतर सेवन करने से व्यक्ति मदोन्मत होकर अच्छे से गृहस्थी भोग करता है.
    • श्री कामदेव के निरंतर सेवन करने से व्यक्ति में वाजीकारक ताक़त आती है, वाजीकरण देह में अत्यंत बल पराक्रम करता है, निर्बल या कमज़ोर पुरुषों के दुःख दूर करने, उनका प्रेम निबाहने और उनके शरीर की रक्षा करता है. यह संतान पैदा करने और तत्काल आनंद देने वाला है.
    • श्री कामदेव रस का सेवन करने वाले व्यक्ति की स्त्री सदैव दासी बन कर रहेगी. कभी गलती से भी दुसरे पुरुष की तरफ मुंह नहीं करेगी.
    • श्री कामदेव का सेवन करने से होने वाली संतान रूपवती, बलवती और बुद्धिमती होगी.
    • श्री कामदेव के सेवन करने से शरीर निरोगी रहेगा और गाहे बगाहे डॉक्टर या वैद्य का मुंह भी देखना नहीं पड़ेगा.

    आपको श्री कामदेव की ज़रूरत क्यों है ? shri kamdev

    • कामोत्तेजना और वीर्य बढाने के लिए..
    • सम्भोग में समय बढाने और आनंद बढाने के लिए..
    • अगर आपका सम्भोग समय एक मिनट तक भी नहीं रहता..
    • संतान पैदा करने की शक्ति लाने के लिए…
    • स्त्री को संतुष्ट और तृप्त करने के लिए..
    • अगर आप मैथुन करने से पहले ही ढीले पड़ जाते हैं तो आपको कामदेव की ज़रूरत है…
    • अगर आपका वीर्य पतला हो गया हो तो.
    • अगर वीर्य कम हो गया हो तो..
    • अगर रुकावट ना रहती हो तो..
    • स्वप्न दोष होता हो तो…
    • जिन लोगों में वीर्य तो बहुत है, मगर वीर्य में गर्मी अधिक होने से स्त्री की योनी देखने मात्र से वीर्य निकल जाए ऐसे रोगियों को श्री कामदेव की बहुत ज़रूरत है.

    श्री कामदेव इस्तेमाल करने की विधि. Shri kamdev

    अगर आपको कब्ज़ रहती हो तो यह दवा लेने से पहले कब्ज़ का यथा संभव इलाज कीजिये, अन्यथा आप जितनी भी दवा करवा लो कोई भी दवा आपके काम नहीं आएगी. जब कब्ज़ ख़त्म हो कर शरीर से सारा मल निकल जायेगा तो उसके बाद आपका लीवर बलशाली होना चाहिए, अन्यथा यह दवा आपको हज़म नहीं होगी और सब व्यर्थ चला जायेगा. इसलिए पहली बार आप श्री कामदेव के साथ में लीवर के लिए आप Only Ayurved का Liver Reactivator 15 से 20 दिन तक अवश्य पियें. सुबह खाली पेट शौच से मुक्त हो कर श्री कामदेव रस 15 ml लीजिये, और इसके 1 घंटे तक कुछ भी सेवन नहीं करें. और सुबह शाम 15 – 15 ml Liver Reactivator खाने के आधा घंटा पहले लीजिये. और पेट साफ़ करने की दवा रात्रि को सोते समय लीजिये. श्री कामदेव को रात्रि को सोने से कम से कम घंटा पहले और खाने के कम से कम एक घंटा बाद में लेना है.

    नोट – अगर कमजोरी अधिक हो तो दवा सेवन करने के 5 दिन तक स्त्री संसर्ग ना करे.

    दवा सेवन करते समय परहेज – shri kamdev

    जिस रोगी का पित्त बढ़ा हुआ हो ऐसे कामी पुरुषों को सदैव चरपरे, खट्टे, लाल मिर्च, गरम और खारे पित्त बढाने वाले अधिक पदार्थ सेवन नहीं करने चाहिए. बढ़ा हुआ पित्त वीर्य पैदा करने वाली धातुओं को कुपित कर देता है, जिस कारण से वीर्य नहीं बन पाता. ऐसे रोगी को किसी मुर्ख की बातों में आकर कच्ची पक्की वंग भस्म, सीसा भस्म, लोहा भस्म आदि ना खाएं, अथवा तेज़ी लाने को अफीम, भांग और कुचला सेवन नहीं करना चाहिए. नशे से जल्दी चेतना तो आ जायेगा, मगर फिर जल्दी ही नामर्दी आ जाएगी.

    कब तक करें श्री कामदेव रस का सेवन. shri kamdev

    कामी और कमज़ोर पुरुषों को इसका सेवन 12 महीने करना चाहिए, अगर 12 महीने सेवन ना कर सकें तो उपरोक्त लिखी हुई वीर्य बढाने की चीजें निरंतर इस्तेमाल करते हुए इसको साल में कम से कम 4 महीने ज़रूर इस्तेमाल करें.

    तुरंत असर के लिए क्या करें.

    वैसे इस दवा से हफ्ते दस दिन में असर दिख जाता है, मगर आप इसका जल्दी नतीजा पाना चाहते हैं तो इसके साथ में Only Ayurved की Wonder Berry का सेवन करे. यह कामदेव रस के आधे घंटे के बाद में रात्रि को सोते समय लीजिये. ध्यान रहे सम्भोग इसके कम से कम आधे घंटे के बाद ही करना है. wonder berry दुनिया की सर्वश्रेष्ठ बेरियों से निर्मित है, जैसे अकाई बेरी, ब्लूबेरी,मल्बेरी, रसबेरी, ब्लैकबेरी इत्यादि. इसके सेवन से शरीर में ऐसे मिनरल और विटामिन की पूर्ति होती है जो शरीर को भोजन से नहीं मिल पाते, यह एंटी ऑक्सीडेंट का भरपूर खजाना है. इसलिए श्री कामदेव रस के साथ लेने से यह दोनों तुरंत प्रभाव दिखाते हैं.

    श्री कामदेव का मूल्य – shri kamdev

    श्री कामदेव का मूल्य 970 रुपैये हैं, यह 500 ml की पैकिंग में आता है. वंडर बेरी भी 970 रुपैये की है और यह भी 500 ml की पैकिंग में आती है. Liver Reactivator भी 500 ml में आता है, इसका मूल्य सिर्फ 380 रुपैये है.

    आपको यह दवा आपके नजदीकी Only Ayurved Dealer से मिल जाएगी उनकी list और उनकी Location नीचे दी गयी है.

    आपके नजदीकी Only Ayurved Dealer list और उनकी Location

    बिहार

    पटना – 7677551854, 7480099296

    छपरा – 9473221039

    गोपालगंज – 9431059379

    गया (इमामगंज) – 9771898989

    मधेपुरा – 9546552233

    छत्तीसगढ़

    बिलासपुर – 9584891808, 9926758959, 9300333438

    रायपुर – 9644133772

    दुर्ग भिलाई – 9691305217

    झारखण्ड

    मनिका – लातेहार – 9801290105

    पश्चिम बंगाल – West Bengal

    कोलकाता –  7003386968

    असम

     

    महाराष्ट्र

    मालेगांव (नासिक) – डॉ. फरीद शेख 9860785490

    धुले – 9270558484

    नासिक – 9270928077

    पुणे – 9209211786

    अकोला – 7020579564

    वर्धा – 9579997503

    नागपुर – 8830998853

    शोलापुर – 8308604642

    कोल्हापुर – 9923280004

    अहमद नगर – राओरी – 8605606664

    कल्याण – 8454050864

    टिटवाला – 9821315415

    मलाड – 9967293444

    घाटकोपर – 07738350032

    बोरीवली – 9004316923

    भंडारा – 9422174853

    औरंगाबाद – 7020505445

    जालना – 7020505445

    विरार – 9892967369

    अमरावती – 9765332255

    कर्नाटक – Karnataka

    धारवाड़ (Dharwad) – 9844984103

    बैंगलोर (Bangalore) – 7019098485

    तामिलनाडू

    चेन्नई – 9884164854

    तेलंगाना

    हैदराबाद – 08374457775

    गुजरात

    अहमदाबाद – 9974019763, 7874559407

    पालनपुर ( डॉ. हिदायत मेमन )  –  9428371583

    द्वारिका – 9033790000

    चिकली – 9427869061

    अमरेली – 9427888387

    अंकलेश्वर – भरूच – 8460090090

    वड़ोदरा – 7574857452

    सूरत –  8866181846, 9879157588

    भुज / मुंद्रा  – 9974576143

    जामनगर – 9974199748

    मध्यप्रदेश

    भोपाल – 7987552689

    इटारसी – 6260342004

    सारणी – 8989831927

    इंदौर – 9713500239

    विदिशा – 9131055585

    जबलपुर – 9039868554

    ग्वालियर – 9229239248

    कटनी – 9074901083

    उत्तर प्रदेश

    मेरठ – 8449471767

    हाथरस ( U. P. ) –  9997397043, 7017840020

    मथुरा ( वैध रविकांत जी ) – 9259883028

    अलीगढ – 9027021056

    आगरा – 9027143749, 8923234014

    फ़िरोज़ाबाद – 8445222786 वैध रविन्द्र सिंह

    मैनपुरी – 8449601801

    फ़र्रुख़ाबाद – 9839196374

    सुल्तानपुर – 9125131178

    रायबरेली – 9236038215

    वाराणसी – 9125349199

    इलाहाबाद ( डॉ.  सी. पी. सिंह ) – 9520303303

    गोरखपुर – 9792960999

    सिद्धार्थ नगर – 9936404080

    महाराजगंज – 9455426806

    लखनऊ – 9140546350

    इटावा – 9557463131 डॉ. कौशलेन्द्र सिंह

    उत्तराखंड

    ऋषिकेश – 7456987328

    दिल्ली –  NCR

    सराय कालें खां –  9015439622, 9871490307

    सुभाष नगर – 9911006202

    कड़कड़डूमा – 7827444007

    गाज़ियाबाद – 9719077555

    Greater Noida – 9310299100

    गुडगाँव – 9310330050

    फ़रीदाबाद – 9315154682

    हरियाणा

    हिसार – 9518884444

    हसनपुर पलवल – 9050272757

    पानीपत – 9812126662

    रोहतक – 9467770773

    बाढ़डा ( चरखी दादरी ) – 9813210584

    फ़रीदाबाद – 9315154682

    चंडीगढ़ – 9877330702

    डबवाली – 9416218182

    पंजाब

    बठिंडा – 9779566697

    डबवाली – 9416218182

    कोट कपूरा – 9872320227

    मलोट – 9878100518

    मलेर कोटला – 9872439723

    लुधियाणा – 9803772304

    मोगा – 9988009713

    जगराओं – 9646683463

    रोपड़ – 9478391123, 8528386098

    जालंधर – 9814832828

    अमृतसर – 8872295800

    होशियारपुर उड़मुड टांडा – 9803208718

    गुरदासपुर – 9815483791

    मोहाली – 09216411342

    मुकेरियां – 9815296322

    चंडीगढ़ – 9877330702

    राजस्थान

    जयपुर – 8290706173

    दौसा – 7737497140

    जोधपुर – 8005724956

    अजमेर – 7976779225

    मकराना – 8619299924

    सिरोही – 9875238595

    उदयपुर – 9875238595

    टोंक – 9509392472

    फतेहपुर शेखावाटी – 9636648998

    चुरू – 7976194800

    उदयपुर वाटी (झुंझुनू)  डॉ राकेश कुमार – 9351606755

    संगरिया – 7597714736

    हिमाचल प्रदेश

    नालागढ़ – 9816022153

    कुल्लू – 8219500630

    चिन्तपुरणी – 9816414561

    अगर आप Only Ayurved के साथ मिलकर ये काम करना चाहते हैं तो संपर्क कीजिये

    उत्तर प्रदेश 7017840020

    महाराष्ट्र – 9860785490

    मुंबई – 8454050864

    गुजरात – 8866141846

    बिहार – 7677551854

    हरियाणा – 9315154682

    पंजाब – 9779566697

    मध्य प्रदेश – 7987552689

    छत्तीसगढ़ – 9300333438

    अन्य राज्यों के लिए संपर्क करें. 7014016190

95 comments

  1. I am dibatik pationt and I have some sexsua problem plz send me some sagesan

  2. Sir kya bij ka uper ka chilka khana hai

  3. Girija Sankar Mandangi

    बहुत अच्छा post hai मुझे diabetics नहीं है शुगर नहीं है फिर भी 17 साल से बार बार urine करना पेट की गर्मी पिला पिसाब के परेसानी से झुझ रहा हूँ उपाय बताइये

  4. अति लाभप्रद जानकारी जी।

  5. very good desh ke liya bhi acha log videshi dva me pagal ho rhe he

  6. suresh Kumar garg

    Great information for the needy…
    It is really helpful post for all …noble cause.. Keep it up

  7. How to increase the sexual power. Age 52. No errection

  8. Very good helpfull for every body….

  9. At I uttam

  10. very good

  11. Alsi kha milegi sir

  12. Very good and useful knowledge and advise of treatment

  13. Sir alsi ko khany ka tarik bato

  14. Sir ji kya roasted alsi bhi kha sakte hai.

  15. बहुत ही अच्छी जानकारी है। धन्यवाद् !

  16. I have suffered in my body cholesterol 450 it’s so high
    So what to do

  17. Get me update on ayuved

  18. Please Sir Aap Bataye Ki Kya Bacche & Ladies Bhi Alsi Ka Prayog Kar Sakte h Kya?

  19. sir alsi k kis bhag ka use krna h

  20. If ready made for erection age 55 y please suggest

  21. Alsi cold water se le sakte h. Sexual probulem me kitne din lena h.

  22. Sir plz contact me for atleast one time on WhatsApp or mail. I want to discuss an important topic about my health. Please.
    9467782678

  23. रमेश कुमार

    ये अलसी किस फल का बीज होता है

  24. Gangaram Randhave

    Mujhe haiy BP he kya alsi khane ke bad goli nahi kana padegi bataye

  25. Sir.alasi kaha milegi .?

  26. alsi ka marathi name kya hai

  27. Thanks for imformationThanks

  28. Very good for midim people

  29. deear sir ye alase kaha par milege or kis bhav me milege thoda bataye my no 9714344336

  30. satyendra kr agrawal

    bahut bdhiya jankari mila .thanks .urine pila hota hai.kuchh din pahle jaundise tha abhi nahi hai par pesab pila ho raha hai.kuchh upay bataye.

  31. Sir kya ise garmi me le sakte h. Iske taseer bahut garm hot h

  32. राजेंद्र

    अच्छी जानकारी

  33. mera urick acid bda huwa tha uske liye upaye btayen

  34. sir ise koi bhi istemal kr skta hai kya aate mein mila kr roti bna kr?

  35. jitendar Patel

    Sir ji kitana din alshi kahane se sex poblam thek ho jayega mera birya bahut patla leeng bhi tehara hai bahut paresaan hoo 6 years

  36. Sir
    Meri samasya yeh hai ki mere long me
    Last 3month se uttejna kam ho gayi hai
    Us samay Maine hydroseal ki dawa lithi
    Homyopathy ki
    Lekin won to think hua nahi
    Or yeh prob ho gayi Maine WO dawa kewal 2din hi khayi thi.
    Use pahle mai hastmaithun bhi kiya karta tha
    Plz koi samadhan bataye
    Plz email pe bhejiyega..

  37. अत्यंत सुन्दर

  38. My blood group is B+ can i take alsi. Summer season m lay sakte hai?

  39. Sir my uric acid lebal z greater tan 7. Need ur advise to reduce the level

  40. अवनीश त्यागी

    सर मुझे शूगर है क्या शुगर में भी अलसी फायदेमंद है अगर है तो मेरी मेल पर रिप्लाई दीजिए और शुगर में और कोई अच्छी दवाई अगर है तो प्लीज बताइये और परहेज भी सर नसे सिथिल पड़ती जा रही है याददास्त कमजोर हो रही है आखो की रौशनी भी कम होती जा रही है उम्र केवल 42 साल है।

  41. pushpendra kashyap

    sir g alsi ko english m kya kehte h

  42. Ye Alshi kya he iska english name or ye kaha milega please koi bataye.

  43. मेरे पैट में अक्सर गैस की problem रहती हे
    खाना खाते ही गैस बेन जाना तथा बार बार टॉइलट की problem रहती हे plz sir help mइ plzzzzzzzzz

  44. शेख गुफरान

    बादाम का सेवन गर्मी के मौसममे करनेसे कोइ नुक्सान
    मै रातमे बादाम की दस गीरी पानीमे भीगोके सवेरे छीलका
    उतारके चबाकर खाताहु कोई नुक्सान तो नही गर्मी मे

  45. Hello i just saw your video on Google

    Hello.
    Thanks for taking time out of your day to read this email.
    I know you are busy but I wanted to share with you a quick video showing how I rank videos for myself and businesses on the 1st page of Google.
    Look, I know you get swamped with messages from people promising the world but in this case..I’m proving it.
    All I can do is ask you for two minutes of your valuable time so I can show you how I rank videos on the front page of Google and how I can do the same for you bringing in clients and sales in a matter of days.
    http://www.abouttrillionsvideo.com (this will take you to my private blog)
    enjoy the video and get ready to be blown away.
    Enjoy!
    Hello i just saw your video on Google http://www.abouttrillionsvideo.com

  46. Hello sir mera naam s Sharma h mujhe hasth mithun ki bahut buri aadat pad gyi hai
    Me bhag goli jo 1 rs me aati hai uska sevan bhi krta hu.
    Bahut kamjori hai d8n me ek bar to hath sr sex krta hi hu. Kuchh solution btaiye sir pls
    Rply mail id
    [email protected]

  47. Sir Maine bahut jyada masteberation Kia h jiske wajah se mujhe bahut pareshani ho rahi h. Sarir patla hote ka rang raha h. Yadast v kamjor ho Chuka h. Mera penish v tedha ho gya h. Or sex problem v bahut jyada h. Please sir help me. Mai bahut pareshani me hu. Mera life barbad ho jayega

  48. लाभ् कितने दिनोँ मे होगा। और कितने दीनों तक खा सकते है ,कृपा कर बताऐं

  49. Sexual problem me ALSII kachchi ya bhuni leni h. normal water se le sakte h ya nhi.

  50. Dr.Saheb ye Alsi kiya hai aur kha milega Please reply send my [email protected]

    Saghir

  51. sir mera ling puri tarh se sakht nahi hota hai aur mera virya bhi bahut patla hai aur ling me any time kamjori rahta hai sir mera age 24 year aur aur meri shadi ho gai h meri ek beti hai sir koi upay bataiye

  52. Dheerendra chauhan

    सर जी क्या अलसी को पीसकर या कढाई में भूनने के बाद पीसकर सीधे पानी या दूध से ले सकते हैं? दिन में एक बार या दो बार लें कृपया बतायें।

  53. Sir also kitne din me apna asar dikhane lagta hai…?

  54. Alsi ka asar dekhne ke liye kam se kam kitne time khani chahiye…main rasted Alsi grinder krke 20-30 gram khaa rha hu kuch Dino se

  55. Sir asli ko sex prblm k …liye kitne tym tk use krna hi ….batye plz ..

  56. लोगों का तो काम है कहना
    बहुत कुच्छ कहते है
    मै सुनता हूं लेकिन कब तक
    कुच्छ खाता पीता नही है
    क्या खाना पीना बंद कर दिया है
    समझ नही आता कब तक और सुनूंगा
    कुच्छ भी खाता पीता हूं मेरे सरीर को
    कहीं लगता ही नही है
    मेरा वजन बहुत कम है
    सरीर से मै बहुत पतला हूं

  57. Sir kya alsi ko kaccha kha sakte h

  58. Sir ji mere dost ko sexual problem he use sex karne ka man nahi hota bhut jaldi discharge ho jata he koi upay btaye.age he 32 years

  59. Sir alsi ke side effects kya hai

  60. Alsi 150 Rs per kg PANSARI KI DUKAN par milegi

  61. What is aalsy

  62. Sir alsi khane see erectile dyfunctional ki problem khatam ho jati h kya

  63. बहुत ही अच्छी जानकारी है। धन्यवाद् !

  64. sir, मेरे पत्नी के पिछले ८ माह से महावरी आने 1 सप्ताह पहले से ही सफ़ेद पानी का स्राव बहुत होता हे और महावरी में पेट में असहनीय दर्द ओर पुरे महीने में कम से कम २० दिन रोज पेट दर्द रहता हे ओर डॉक्टर और जांचे करराने पर पता चला की बच्चे दानी में सुजन बताया जिसका पिचले ४माह से वरिष्ट स्त्री रोग विशेषज्ञ द्वारा बराबर इलाज चल रहा हे परन्तु अभी तक उक्त समश्या से कोई खास लाभ नही मिला हे इस वजह हम काफी परेशान हे अत इस सफ़ेद पानी का स्राव और महावरी में पेट में असहनीय दर्द और पुरे महीने में कम से कम २० दिन रोज पेट दर्द की कोई पूर्ण रूप से ठीक करने कोई विश्वसनीय दवा और इलाज हे क्या अगर होतो बताना मेरे पता उमेश सेन सम्पर्क नम्बर और watsupp नम्बर ९६४९५०९४९३

    • आप स्त्री संजीवनी दवा का सेवन अपनी पत्नी को करवाएं. अगर आपने अपने शहर का नाम बताया होता तो हम आपको आपके नजदीकी ओनली आयुर्वेद डीलर का नंबर दे देते. अभी आप अधिक जानकारी के लिए 6378269870 पर संपर्क करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status