Tuesday , 20 November 2018
Home » सब्जिया » तुरई » जानकर मत होना हैरान तोरी तुरई है कुदरत का वरदान : अनेक बिमारिओं की एक दवाई – तुरई

जानकर मत होना हैरान तोरी तुरई है कुदरत का वरदान : अनेक बिमारिओं की एक दवाई – तुरई

 जानकर मत होना हैरान तोरी तुरई है कुदरत का वरदान

  अनेक बिमारिओं की एक दवाई – तुरई

हरी सब्जियां खाने की सलाह सभी डॉक्टर देते हैं। हरी सब्जियों की उचित मात्रा आहार में शामिल करते रहने से ही हमारे शरीर में रक्त के निर्माण के साथ साथ शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। रोगों से लड़ने के लिए हमारे रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा तय मानक के अनुसार होनी चाहिए। रक्त और हीमोग्लोबिन की मात्रा सही रखने के लिए हरी सब्जियों से बढ़कर कुछ भी नहीं है।

गर्मियों में हरी सब्जियों की जरूरत अन्य मौसमों की तुलना में अधिक होती है क्यूंकि गर्मी के दिनों में हमारे शरीर से पसीना और नमक निकलता रहना है इस वजह से रक्त की कमी भी अन्य मौसम की तुलना में ज्यादा हो सकती है। सब्जियों की मात्रा में कमी के कारण आजकल हमारे शरीर में कमजोरी के साथ साथ बालों का सफेद होना, नजर कमजोर हो जाना, हाथ पैरों में दर्द, गैस की समस्या, सांसों में घरघराहट, खर्राटे लेना आदि समस्याएं आम बात हो गयी हैं।

जानिये तुरई (नेनुआ) के बारे में

तुरई या तोरी (नेनुआ) एक ऐसी सब्जी है जिसे लगभग संपूर्ण भारत में उगाया जाता है। तुरई का वानस्पतिक नाम लुफ़्फ़ा एक्युटेंगुला है। तुरई को आदिवासी विभिन्न रोगों के उपचार के लिए उपयोग में लाते हैं। मध्यभारत के आदिवासी इसे सब्जी के तौर पर बड़े चाव से खाते हैं और हर्बल जानकार इसे कई नुस्खों में इस्तमाल भी करते हैं। चलिए आज जानते हैं तोरई के लाभ के बारे में –

इन बीमारियों की रामबाण दवा है तुरई-

डायबिटीज रोगियों के लिए फायदेमंद

तुरई ब्‍लड और यूरीन दोनों में शुगर के स्‍तर को कम करने में मदद करती है। इसलिए यह डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद होती है। तुरई में इन्सुलिन की तरह पेप्टाईड्स पाए जाते हैं। इसलिए इसे डायबिटीज नियंत्रण के लिए एक अच्छे उपाय के तौर पर देखा जाता है। इसलिए सब्जी के तौर पर इसके इस्तेमाल से डायबिटीज में फायदा होता है।

वजन कम करने में सहायक

एक तुरई में लगभग 95 प्रतिशत पानी और केवल 25 प्रतिशत कैलोरी होती है। जिससे वजन नहीं बढ़ता। इसमें संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रॉल की भी बहुत ही सीमित मात्रा होती है जो वजन कम करने में सहायक होती है।

त्‍वचा संबंधी रोगों में लाभकारी

यह मुंहासे, एक्जिमा, सोरायसिस और अन्य त्वचा संबंधी रोगों के उपचार में सहायक होती है। कुष्ठ रोग में भी तुरई उपयोगी होती है। तुरई की सब्जी खाने से प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। इसके सेवन से रक्‍त शुद्ध होता है जिससे त्‍वचा संबंधी रोगों से राहत मिलती है।

आंखों की रोशनी बढ़ाये

तुरई में बीटा कैरोटीन पाया जाता है जो नेत्र दृष्टि बढ़ाने में मदद करता है। अगर आप अपनी आंखों की रोशनी बढ़ाना चाहते हैं तो अपने आहार में तुरई को शामिल करें।

लिवर के लिए गुणकारी

लगातार तुरई का सेवन करना सेहत के लिए बेहद हितकर होता है। तुरई रक्त शुद्धिकरण के लिए बहुत उपयोगी माना जाता है। साथ ही यह लिवर के लिए भी गुणकारी होता है। साथ ही पीलिया होने पर अगर रोगी की नाक में 2 बूंद तोरई के फल का रस डाल दें, तो नाक से पीले रंग का द्रव बाहर निकलता है। जिससे पीलिया रोग जल्दी समाप्त हो जाता है।

Liver Reactivator – लीवर की संजीवनी – मात्र 380 रु में लीवर को दीजिये जीवनदान

liver reactivator, liver ka ilaj, jaundice ka ilaj, liver reactivator

Liver ReActivator – लीवर सिरोसिस, हेपेटाइटिस, फैटी लीवर सहित लीवर की सभी बिमारियों के लिए रामबाण

Liver ReActivator – लीवर सिरोसिस, हेपेटाइटिस, फैटी लीवर, बढे हुए SGPT और SGOT सहित लीवर की सभी बिमारियों के लिए रामबाण है, इसको हमने लीवर के अनेक मरीजों को दिया और बहुत ही सकारात्मक परिणाम भी पायें हैं.

बालों को काला करने में मददगार

बालों को काला करने में भी तुरई बहुत फायदेमंद होती है। इसके लिए तुरई के छोटे-छोटे टुकड़े काटकर छांव में सूखा लें। फिर इन सूखे टुकड़ों को नारियल के तेल में मिलाकर 5 दिन तक रख लें। बाद में इसे गर्म कर लें। इस तेल को छानकर प्रतिदिन बालों पर लगाकर मालिश करें, इससे उपाय को अपनाने से आपके बाल धीरे-धीरे काले होने लगेगें।

अन्‍य लाभ

इसका नियमित प्रयोग करने से कब्ज नहीं होता और पेट भी साफ रहता है। इसके अलावा तुरई पित्त, सांस संबंधी रोगों, बुखार, खांसी और पेट के कीड़ों को दूर करने में लाभकारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status